In association with
S M L

त्रिपुरा: पत्रकार की हत्या के विरोध में खाली छोड़ दिए संपादकीय

त्रिपुरा में एक कॉन्स्टेबल ने बांग्ला अखबार के पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

FP Staff Updated On: Nov 23, 2017 11:04 AM IST

0
त्रिपुरा: पत्रकार की हत्या के विरोध में खाली छोड़ दिए संपादकीय

त्रिपुरा में पिछले दिनों हुए एक पत्रकार की हत्या के विरोध में गुरुवार को वहां के अखबारों ने अपने तरीके से विरोध जताया है. अखबारों ने अपने संपादकीय कॉलम खाली छोड़ दिए हैं. त्रिपुरा के तकरीबन हर अखबार ने एडिटोरियल कॉलम को ब्लैंक कर विरोध जताया है.

त्रिपुरा में एक कॉन्स्टेबल ने बांग्ला अखबार के पत्रकार सुदीप दत्ता भौमिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी. बताया गया कि दोनों के बीच कहासुनी हुई थी. जिसके बाद त्रिपुरा स्टेट राइफल्स के कॉन्स्टेबल ने सुदीप को गोली मार दी.

पुलिस ने बताया कि मौके पर पहुंचकर पुलिस ने पाया कि ‘स्यादंन पत्रिका’ के संवाददाता खून से लतपथ थे. उन्हें अगरतला के जी बी अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

घटना के बाद टीएसआर कांस्टेबल नंदू रयांग को गिरफ्तार कर लिया गया. अखबार के संपादक सुबल दे ने आरोप लगाया कि भौमिक की टीएसआर की दूसरी बटालियन के कमांडेंट तपन देब्बारमा ने मरवाया क्योंकि उन्होंने अधिकारी की भ्रष्ट क्रियाकलापों के खिलाफ कई खबरें लिखी थीं.

उन्होंने देब्बारमा की तत्काल गिरफ्तारी और निलंबन की मांग की है. इस मामले में भारतीय प्रेस परिषद ने राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है. राज्य में दो महीने के अंदर दूसरी बार पत्रकार की हत्या की गई है.

इस मामले में इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी (आईएनएस) ने भी विरोध जताया और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की.

आईएनएस ने बयान जारी कर कहा, ‘त्रिपुरा में दो महीने में किसी पत्रकार की यह दूसरी हत्या है और इससे पत्रकार वर्ग में काफी असुरक्षा की भावना है. आईएनएस मांग करता है कि त्रिपुरा की सरकार दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दे.’

( एजेंसी इनपुट पर आधारित )

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
गणतंंत्र दिवस पर बेटियां दिखाएंगी कमाल!

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi