S M L

क्या है देश की 5 बड़ी मुस्लिम संस्थाओं की तीन तलाक पर राय?

तीन तलाक देने के तौर-तरीके पर पांचों संस्थाएं मिल-बैठकर बात करने को तैयार

FP Staff Updated On: Aug 22, 2017 10:53 AM IST

0
क्या है देश की 5 बड़ी मुस्लिम संस्थाओं की तीन तलाक पर राय?

देश की पांच बड़ी मुस्लिम संस्थाओं की तीन तलाक के मुद्दे पर एक ही राय नजर आती है. इन संस्‍थाओं का मानना है कि कुरान में तीन तलाक का तो जिक्र है. लेकिन तुरंत तलाक देने को इसमें सही नहीं माना गया है. ये संस्‍थाएं भी तुरंत तीन तलाक और तीन तलाक को दो अलग मसला मानती हैं. इनका मानना है कि कुछ मामलों में तलाक देने का तरीका गलत रहा है.

muslim women

ये संस्‍थाएं तुरंत तलाक के तरीकों के खिलाफ हैं. लेकिन इसके बावजूद इनका मानना है कि अगर तुरंत तीन तलाक दे दिया गया, तो वो तलाक जायज माना जाएगा.

तीन तलाक देने के तौर-तरीके पर पांचों संस्थाएं मिल-बैठकर बात करने को तैयार हैं. कुछ लोग केन्द्र सरकार के साथ भी बात करने को राजी हैं, बशर्ते सरकार पहले अपनी मंशा जाहिर करे कि वो तीन तलाक के मुद्दे पर आखिर चाहती क्या है.

तुरंत तीन तलाक के मसले पर न्यूज18 हिन्दी ने देश में मुस्लिमों की पांच बड़ी संस्थाओं से जुड़े अहम लोगों से उनकी राय जानी. तीन तलाक के मुद्दे पर सभी की एक राय है. कुरान में भी तीन तलाक के जिक्र होने की बात कहते हैं. लेकिन एक साथ तीन तलाक दिए जाने की बात से उन्हें भी परहेज है. इन संस्‍थाओं में देवबंद,बरेली और नदवा मदरसा के साथ ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और ऑल इण्डिया शिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड शामिल हैं.

ऑल इण्डिया मुस्लिम महिला पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाहिस्ता अम्बर के अनुसार,' तीन तलाक के बारे में कुरान जो कहता है हम उसी को मानते हैं. जो लोग एक साथ लगातार तीन बार तलाक बोल देते हैं उसमें बदलाव होना चाहिए'

सलमा अंसारी अपनी बात पर कायम, बोली लेकिन इसे आधिकारिक बयान न समझें

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी सलमा अंसारी के अनुसार,'कुरान में तीन तलाक का जिक्र नहीं है.' सलमा यही बात पहले भी कह चुकी हैं.

दरअसल न्यूज18 हिन्दी से हुई बातचीत में सलमा अपनी इस बात को दोहराते हुए कहा कि,'यह आपसी चर्चा का मसला है,इसे मेरा अधिकारिक बयान न माना जाए.

(साभार न्यूज18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi