S M L

मुनीर कादिरी: आज का जैश आतंकी, कल तक चल रहा था शांति की राह पर

कादिरी आतंकवाद का रास्ता छोड़ चुके उन 450 आतंकियों में शामिल था जो राज्य की पूर्व सरकार की आत्मसमर्पण नीति के तहत नेपाल के रास्ते कश्मीर वापस आए थे

Updated On: May 29, 2018 05:28 PM IST

Bhasha

0
मुनीर कादिरी: आज का जैश आतंकी, कल तक चल रहा था शांति की राह पर

एनआईए द्वारा पिछले सप्ताह जैश-ए-मोहम्मद का एक सदस्य घोषित किया गया सैयद मुनीर-उल-हसन कादिरी सात वर्ष पहले आतंकवाद का रास्ता छोड़कर अपने परिवार के साथ नेपाल के रास्ते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से कश्मीर लौट आया था और उसने शांति और बेहतर जीवन का रास्ता चुना था.

अधिकारियों ने बताया कि कादिरी को अब गिरफ्तार कर लिया गया है और आरोप है कि नगरोटा में एक सैन्य शिविर पर 2016 में हुए एक आतंकवादी हमले में वह शामिल था. कादिरी आतंकवाद का रास्ता छोड़ चुके उन 450 आतंकवादियों में शामिल था जो राज्य की पूर्व उमर अब्दुल्ला सरकार की आत्मसमर्पण नीति के तहत नेपाल के रास्ते कश्मीर वापस आए थे.

1990 के दशक की शुरुआत में पीओके पहुंचा पीपुल्स लीग का एक सक्रिय सदस्य कादिरी 2011 में अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ वापस लौटा था. श्रीनगर के निचले इलाके में गिरफ्तार दो युवकों से पूछताछ के दौरान उसका नाम सामने आने के बाद इस महीने की शुरुआत में जम्मू कश्मीर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया.

आतंकवादी हमले में शामिल होने के कारण हुआ गिरफ्तार

पूछताछ के दौरान कादिरी (45) ने जम्मू के नगरोटा में 2016 में एक सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमले में अपनी संलिप्तता के बारे में कथित रूप से बताया. इस हमले में दो अधिकारियों समेत सेना के सात जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद 26 मई को उसे राष्ट्रीय जांच एजेंसी की हिरासत में दे दिया गया.

अधिकारियों ने बताया कि 2011 में आतंकवाद का रास्ता छोड़कर लौटे कादिरी को अपना जीवन फिर से शुरू करने के लिए जम्मू कश्मीर बैंक से ऋण उपलब्ध कराया गया था. उसने रेडिमेड कपड़ों का छोटा सा व्यवसाय शुरू करने के लिए इस धनराशि का इस्तेमाल किया था लेकिन 2014 की बाढ़ में यह सब नष्ट हो गया. कादिरी ने अक्टूबर 2015 में कहा था, ‘मेरे पास अपना घर चलाने के लिए आतंकवाद के रास्ते पर लौटने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा.’

सैन्य शिविर में तीन आतंकवादियों को भेजने में मदद की

एक अधिकारी के अनुसार कादिरी ने सितम्बर, 2016 से जैश-ए-मोहम्मद के साथ काम करना शुरू कर दिया और उस वर्ष नवंबर में जम्मू क्षेत्र के नगरोटा में सैन्य शिविर में तीन आतंकवादियों को भेजने में मदद की.

कादिरी ने कहा था, ‘हमसे बड़े-बड़े वादे किए गए थे लेकिन हमारे पास पहनने के लिए ढ़ंग के कपड़े भी नहीं थे. हमें अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए भीख मांगने के लिए छोड़ दिया गया.’

केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां लंबे समय से कहती आ रही है कि नेपाल से लौटने वाले लोगों के लिए एक समाधान होना चाहिए. यदि ऐसा नहीं होता है, तो वे घाटी में आतंकवादी समूहों का फिर से शिकार हो जाएंगे. एक अधिकारी ने बताया कि महबूबा मुफ्ती सरकार ने इस मामले को केंद्र के समक्ष उठाया था, लेकिन उस पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi