S M L

बजट 2017: तंबाकू पर भारी टैक्स, किसानों के लिए 'हानिकारक'

सिगरेट पर उत्पाद शुल्क में भारी वृद्धि से देश में इसकी तस्करी बढ़ी है.

Updated On: Jan 25, 2017 02:41 PM IST

FP Staff

0
बजट 2017: तंबाकू पर भारी टैक्स, किसानों के लिए 'हानिकारक'

'सिन' टैक्स के तहत सरकार इस बार के आम बजट में तंबाकू के पदार्थों पर भारी टैक्स लगा सकती है. यह भी खबर है कि 1 जुलाई, 2017 से लागू होने वाले जीएसटी के तहत भी तंबाकू उत्पादों पर भारी टैक्स लगेगा. ऐसा इन उत्पादों के उपयोग को हतोत्साहित करने के लिए किया जाता है.

हालांकि तंबाकू का उत्पादन करने वाले किसानों के संगठन ‘फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया फॉर्मर एसोसिएशन: एफएआईएफए’ ने तंबाकू पर उत्पाद शुल्क बढ़ाने का विरोध किया है.

एसोसिएशन के महासचिव मुरली बाबू ने यहां जारी एक बयान में कहा, 'तंबाकू उत्पादों को बनाने वाली कंपनियां द्वारा तंबाकू की खरीदारी में लगातार कमी हो रही है. इससे किसान काफी चिंतित हैं. रेगुलेटरी निगरानी का दायरा काफी बढ़ने से तंबाकू उत्पादक किसानों में काफी घबराहट और बेचैनी है.'

यह भी पढ़ें: बजट 2017: ये रुपया क्या कहता है

इस संगठन से आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और गुजरात के किसान जुड़े हैं. इस संगठन ने वित्त मंत्री अरुण जेटली से अपील की है कि कानूनी रूप से कारोबार कर रहे सिगरेट उद्योग पर करों का अधिक बोझ नहीं लादा जाना चाहिए.

भारी टैक्स के कारण तंबाकू किसानों की आय घटी

उन्होंने कहा कि भारतीय तंबाकू निर्यात भी कमजोर पड़ा है और इससे किसानों की आय में 22 प्रतिशत गिरावट आई है.

एसोसिएशन ने कहा है, ‘तंबाकू उत्पादों पर उत्पाद शुल्क में अत्यधिक वृद्धि की वजह से किसानों की आय में गिरावट आई है. वर्ष 2012-13 से इन उत्पादों पर कुल मिलाकर 118 प्रतिशत तक शुल्क वृद्धि की जा चुकी है. इसके वजह से सिगरेट का कानूनी कारोबार घटा है.’

यह भी पढ़ें: बजट 2017: कृषि क्षेत्र में बुनियादी ढांचा मजबूत करने पर होगा फोकस

एसोसिएशन के अनुसार सिगरेट पर उत्पाद शुल्क में भारी वृद्धि से देश में इसकी तस्करी बढ़ी है. आगामी बजट में यदि इसमें और वृद्धि की जाती है तो पहले से ही करों के भारी बोझ तले दबे तंबाकू उद्योग के लिये काफी परेशानी होगी.

इससे तंबाकू कारोबार संगठित क्षेत्र से हटकर असंगठित क्षेत्र की तरफ जाने लगेगा. इसका सरकार की राजस्व वसूली पर भी बुरा असर पड़ेगा और इससे किसानों की रोजीरोटी पर भी असर पड़ेगा.

आम बजट 2017 की अन्य खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi