S M L

UP पुलिस की भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले 3 'मुन्नाभाई' गिरफ्तार

यह 'मुन्नाभाई' गिरोह यूपी पुलिस और पीएसी भर्ती परीक्षा में बड़े पैमाने पर नकल और धांधली कराता था. आरोपियों के पास से 3 मोबाइल फोन और कई इलेक्ट्रानिक उपकरण बरामद हुए हैं

FP Staff Updated On: Jun 18, 2018 03:42 PM IST

0
UP पुलिस की भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले 3 'मुन्नाभाई' गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में फर्जी कैंडिडेट बनकर एग्जाम दिलाने के रैकट का पर्दाफाश हुआ है. जिले के शिवकुटी थाने की पुलिस ने धांधली के आरोप में कैंडिडेट मनीष कुमार यादव, अजय कुमार यादव और गिरोह के एजेंट फूल चंद्र पटेल को गिरफ्तार किया है.

यह 'मुन्नाभाई' गिरोह यूपी पुलिस और पीएसी भर्ती परीक्षा में बड़े पैमाने पर नकल और धांधली कराता था. पकड़े गए आरोपियों के पास से 3 मोबाइल फोन और कई इलेक्ट्रानिक उपकरण बरामद किए गए हैं.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) नितिन तिवारी ने बताया कि गिरोह का मोडस ऑपरेंडी (काम करने का तरीका) यह था कि इनका एक सदस्य एग्जाम में बैठता था. वो प्रश्नपत्रों की तस्वीर लेकर उसे फौरन सॉल्वर (प्रश्नपत्र हल करने वाला) के पास भेज देता था. जहां से एग्जाम में बैठे शख्स को सॉल्वर छिपे हुए माइक के जरिए जवाब बताता था. शातिर सॉल्वर इस काम के लिए हर कैंडिडेट से 5 लाख रुपए वसूलते थे.

नितिन तिवारी ने बताया कि सोमवार को आयोजित होने जा रही पुलिस और पीएसी में आरक्षी पदों पर भर्ती परीक्षा को प्रभावित करने वाले गिरोह के बारे में जानकारी जुटाई जा रही थी. होलागढ़ थाना क्षेत्र के ओड़ारा दहियावां निवासी फूलचंद्र पटेल ने कुछ कैंडिडेट को नकल कराने का उपकरण देने के लिए कर्जन पुल के पास बुलाया था.

उन्होंने कहा कि गिरोह के वॉन्टेड सदस्य राधेश्याम पांडेय, देवकी नंदन वर्मा और सुधीर यादव फरार हैं. इसमें राधेश्याम पांडेय एक कोचिंग का संचालक है, जबकि सुधीर यादव शिक्षक है. कोचिंग संचालक को इस गिरोह का मास्टरमाइंड बताया जाता है.

बता दें कि 41,520 पदों के लिए सिपाही भर्ती परीक्षा 18 और 19 जून को आयोजित की जा रही है. इस एग्जाम के लिए प्रदेश के 56 जिलों में 860 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. इस परीक्षा में 22 लाख से अधिक कैंडिडेट शामिल हो रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi