S M L

दिल्ली में भुखमरी से एक ही परिवार की तीन बच्चियों की मौत हुई

वहीं दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है, 'हम अपेक्षा करते हैं कि तीन बच्चों की भूख से मृत्यु की इस दुखद घटना से केजरीवाल सरकार सबक लेगी और राशन को लेकर राजनीतिक छलावाबाजी करने की बजाय लोगों की बुनियादी जरूरतें पूरी करने पर ध्यान देगी

Updated On: Jul 26, 2018 12:48 PM IST

FP Staff

0
दिल्ली में भुखमरी से एक ही परिवार की तीन बच्चियों की मौत हुई

पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बहनों की मौत हो गई है. शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का संकेत है कि उनकी मौत भुखमरी से हुई है. मामला चर्चा में आते ही दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं. इन तीनों की उम्र दो, चार और आठ साल थी. बुधवार की दोपहर में करीब एक बजे उनकी मां और एक मित्र उन्हें अस्पताल लेकर आए थे. जिसके बाद अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को उनकी मौत के बारे में सूचित किया.

पुलिस उपायुक्त (पूर्व) पंकज सिंह ने बताया कि जीटीबी अस्पताल में चिकित्सकों के एक बोर्ड ने दुबारा परीक्षण किया. शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक लड़कियों की मौत 'कुपोषण या भुखमरी और उसकी जटिलताओं की वजह से हुई है.'

पुलिस ने बताया कि एक फॉरेंसिक टीम ने उस जगह का निरीक्षण किया, जहां परिवार रह रहा था. पुलिस को मौके पर से दस्त के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा की बोतलें और दवाएं मिली हैं. वहीं तीनों बच्चियों का पिता मजदूर के तौर पर काम करता था और वह कल से लापता है. स्थानीय लोगों का कहना है कि वह काम की तलाश में बाहर गए हैं.

पुलिस ने बताया कि बच्चियों के शवों पर चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने एक ट्वीट में कहा, 'दिल्ली सरकार ने मामले में एक मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं.' शुरू में यह प्राकृतिक मौत का एक मामला लगा लेकिन दवाओं की बोतलें मिलने के बाद पुलिस यह सुनिश्चित करना चाहती है कि बच्चियों की मौत किसी साजिश के तहत हुई है या नहीं.

कुछ दिनों पहले ही मंडावली इलाके में रहने आया था परिवार 

स्थानीय लोगों का कहना है कि परिवार बीते शनिवार को इलाके में आया था और उनकी ज्यादा लोगों के साथ बातचीत नहीं थी. बच्चियों का पिता पहले किराए पर एक रिक्शा चलाता था लेकिन कुछ दिनों पहले ही वह रिक्शा चोरी हो गया. जिसके बाद उसी के एक मित्र ने उन्हें अपने घर में शरण दी थी और पूरा परिवार इस इलाके में रहने आ गया था.

स्थानीय लोगों ने बताया कि बड़ी बेटी कल स्कूल गई थी. पुलिस इसकी जांच कर रही है कि वह अचानक बीमार कैसे हो गई. पुलिस मामले की हर पहलू से जांच कर रही है. जिसमें बच्चियों का कुपोषण से मरना शामिल है. बच्चियों  के पिता का जो मित्र बच्चियों की मां के साथ अस्पताल आया था उसने पुलिस को बताया कि बच्चों की तबीयत खराब थी और वह उन्हें अस्पताल ले गया था.

बच्चियों की मां की 'दिमागी हालत' ठीक नहीं है और उसने पुलिस को बताया कि उसे नहीं पता कि उसकी बच्चियों को क्या हुआ और उनकी मौत कैसे हुई.

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है, 'हम अपेक्षा करते हैं कि तीन बच्चों की भूख से मृत्यु की इस दुखद घटना से केजरीवाल सरकार सबक लेगी और राशन को लेकर राजनीतिक छलावाबाजी करने की बजाय लोगों की बुनियादी जरूरतें पूरी करने पर ध्यान देगी.' मनोज तिवारी ने यह भी कहा कि देश की राजधानी जहां राज्य सरकार हर व्यक्ति के घर पर अन्न पहुंचाने की योजनाओं का राजनीतिक प्रचार करती हो वहां प्रदेश के उप मुख्यमंत्री के चुनाव क्षेत्र में ऐसी घटना का होना सबको अचंभित करने के साथ दुखी भी करता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi