S M L

तमिलनाडु: पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे दलितों को सवर्णों ने मौत के घाट उतारा

घटना शिवगंगा की है जहां दलितों का कसूर बस इतना था कि वे सवर्णों के सामने पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे

FP Staff Updated On: Jun 01, 2018 05:13 PM IST

0
तमिलनाडु: पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे दलितों को सवर्णों ने मौत के घाट उतारा

तमिलनाडु के शिवगंगा में जातिगत हिंसा में तीन लोगों के मारे जाने की खबर है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो यहां दलित युवकों का पैर पर पैर चढ़ा कर बैठना सवर्णों को इतना नागवार गुजरा कि मामूली झगड़े से शुरू हुआ विवाद तीन लोगों की हत्या में तब्दील हो गया.

दलितों का कसूर बस इतना था कि वे सवर्णों के सामने पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे. दोनों पक्षों में इसे लेकर पहले तो कहासुनी हुई. 26 मई से शुरू हुआ झगड़ा इतना बढ़ा कि अबतक इसमें तीन लोगों की जान जा चुकी है.

डीएनए की एक खबर के मुताबिक, मामला 26 मई को तब शुरू हुआ जब दो दलित युवक तिवेंतीराम और प्रभाकरण कुरूपासामी मंदिर के बाहर पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे. मदुरई स्थित एनजीओ 'एविडेंस' के कार्यकारी निदेशक ए कातिर ने कहा, दलित युवक पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे थे, तभी दो सवर्ण युवक वहां आए और इसे अपमान समझ कर विवाद करने लगे.

इस घटना के बाद दलितों और सवर्णों में संघर्ष हो गया. दलितों ने इसकी शिकायत पुलिस थाने में करने की बात कही. दलितों का कहना था कि जातिगत शब्दों का इस्तेमाल कर उनके साथ गाली-गलौज नहीं होनी चाहिए. मामला शांत न होने पर दलितों ने इसकी शिकायत पुलिस में की. इससे खफा सवर्णों ने बदला लेने की ठान ली.

पुलिस की रिपोर्ट बताती है कि चंद्रकुमार नाम के एक सवर्ण शख्स ने पास के अवरनकाडू गांव से अपने दोस्तों को इकट्ठा किया और गांव की बिजली काटकर दलितों पर हिंसक हमला कर दिया.

दो दलित व्यक्ति के अरुमुगम (65) और शनमुगनाथन की अस्पताल ले जाने के दौरान मौत हो गई जबकि मदुरई के राजाजी अस्पताल में एक घायल व्यक्ति चंद्रशेखर की मौत हो गई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi