S M L

वीके सिंह की जबान फिसली, कहा-मुआवजा देना बिस्किट बांटने जैसा नहीं

विदेश राज्यमंत्री ने कहा, अभी मुआवजे का ऐलान कहां से करूं. जेब में कोई पिटारा थोड़ी रखा हुआ है

FP Staff Updated On: Apr 02, 2018 05:20 PM IST

0
वीके सिंह की जबान फिसली, कहा-मुआवजा देना बिस्किट बांटने जैसा नहीं

इराक में मारे गए 38 भारतीयों के शव पंजाब लाए जा चुके हैं. केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह भी बगदाद से लौट आए हैं. सोमवार को वे भी पंजाब में रहे. मृतकों के परिवार को मुआवजा मिले या न मिले और मिले भी तो कितना, इसे लेकर राजनीति शुरू हो गई है.

मुआवजे के मुद्दे पर पत्रकारों ने जब वीके सिंह से पूछा तो उन्होंने कहा, ये बिस्किट बांटने वाला काम नहीं है, ये आदमियों की जिंदगी का सवाल है, आ गई बात समझ में. मैं अभी ऐलान कहां से करूं. जेब में कोई पिटारा थोड़ी रखा हुआ है.

प्रेस को संबोधित करते हुए सिंह ने आगे कहा, यह कोई फुटबॉल का खेल नहीं है. केंद्र और राज्य दोनों सरकारें इस मामले में संवेदनशील हैं. विदेश मंत्रालय ने पीड़ित परिवारों से पूरी डिटेल मांगी है कि किसे नौकरी दी जा सकती है. हम इसकी समीक्षा करेंगे.

दूसरी ओर पंजाब के मंत्री और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए का मुआवजा, परिवार में एक आदमी को नौकरी और मौजूदा पेंशन के तहत 20 हजार रुपए दिए जाएंगे.

इराक के मोसुल में आईएसआईएस के हमले में मारे गए 39 भारतीयों में से 38 के अवशेष सोमवार को भारत वापस लाए गए. साथ में विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह अमृतसर पहुंचे. अमृतसर एयरपोर्ट पर ही परिजनों को शव सौंप दिए गए. वहीं उनके आने के पहले से ही इराक में मारे गए भारतीयों के परिवार धरने पर बैठे रहे. मृतकों के परिजन डीएनए जांच को लेकर धरने पर बैठे थे. वीके सिंह एक अप्रैल को अवशेषों को लाने के लिए इराक गए थे और दो अप्रैल को वो विशेष विमान के जरिए शवों के साथ वापस लौटे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi