S M L

सबरीमाला जाने से केंद्रीय मंत्री को रोक दिया था, अब इस IPS अधिकारी के नाम से कांपते हैं लोग

आईपीएस यतीश चंद्रा 2011 बैच के अधिकारी हैं. उनके साथी उन्हें दबंग पुलिस अधिकारी कहते हैं

Updated On: Nov 23, 2018 02:09 PM IST

FP Staff

0
सबरीमाला जाने से केंद्रीय मंत्री को रोक दिया था, अब इस IPS अधिकारी के नाम से कांपते हैं लोग

सबरीमाला मंदिर पिछले कुछ समय से काफी चर्चा में है. महिलाओं के मंदिर के अंदर प्रवेश को लेकर खूब वाद-विवाद दिखाई दे रहा है. ऐसे में एक पुलिस अधिकारी की चर्चा भी खूब हो रही हैं जिसने एक केंद्रीय मंत्री को प्राइवेट गाड़ी में मंदिर में जाने से रोक दिया. इस आईपीएस अधिकारी का नाम यतीश चंद्रा है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक केंद्र सरकार में जूनियर वित्त मंत्री पॉन राधाकृष्णन बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ बुधवार को निलाक्कल बेस कैंप पहुंचे थे जोकि सबरीमाला मंदिर के नजदीक है. राधाकृष्णन का प्राइवेट वाहन मंदिर जाने के लिए रास्ते में खड़ा था. लेकिन पुलिस अधिकारियों ने उनके वाहन को रोक दिया था. पुलिस की टीम का नेतृत्व आईपीएस यतीश चंद्रा कर रहे थे. वह 2011 बैच के अधिकारी हैं. उनके साथी उन्हें दबंग पुलिस अधिकारी कहते हैं.

इस वाकये का एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें राधाकृष्णन, पुलिस अधिकारी चंद्रा से कह रहे हैं कि प्राइवेट गाड़ियों को मंदिर जाने की अनुमति क्यों नहीं दी गई है. इस पर चंद्रा ने यह बताने की कोशिश की, बाढ़ की वजह से पार्किंग बह गई हैं लेकिन मंत्री ने उनकी बात नहीं सुनी. जिसके बाद चंद्रा ने मंत्री से कहा कि प्लीज आप मेरी बात को सुनें. पार्किंग के बह जाने के बाद अगर प्राइवेट गाड़ियों को अंदर भेजा जाएगा तो वहां जाम लग जाएगा. लेकिन मंत्री ने कहा कि अगर ऐसा है तो बसों को अंदर क्यों भेजा जा रहा है. चंद्रा ने जवाब दिया कि बसों को पार्क नहीं किया जाता बल्कि वह तुरंत श्रद्धालुओं को लेकर वापस आती हैं.

चंद्रा ने यह भी कहा कि अगर मंत्री जिम्मेदारी लेते हैं तो प्राइवेट वाहनों को अंदर भेजा जा सकता है. लेकिन राधाकृष्णन ने जिम्मेदारी लेने से मना कर दिया. इसके बाद चंद्रा ने हल्की मुस्कुराहट के साथ कहा कि यही समस्या है, कोई जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं है. चंद्रा की इस बात पर कुछ बीजेपी कार्यकर्ता भड़क गए. यह विवाद कुछ देर तक चलता रहा लेकिन फिर मंत्री समर्थकों को पीछे हटना पड़ा.

यह पहली बार नहीं है जब चंद्रा ने सख्ती के साथ फैसला लिया हो. इससे पहले चंद्रा ने बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी के सुरेंद्रन को भी गिरफ्तार किया था. वह हिंदू आइक्या वेदी प्रमुख केपी शशिकला को भी गिरफ्तार कर चुके हैं.

चंद्रा का कहना है कि उनका कोई एजेंडा नहीं है बल्कि वह बिना किसी राजनीतिक पार्टी को ठेस पहुंचाए अपनी ड्यूटी कर रहे हैं. उनका लक्ष्य सबरीमाला में शांति बनाए रखना है. लेकिन पुलिस विभाग में उनके कुछ सहयोगी कहते हैं कि चंद्रा, मुख्यमंत्री को प्रभावित करने के लिए ऐसा कर रहे हैं. हालांकि चंद्रा ने इन आरोपों को खारिज कर दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi