S M L

Chhath Pooja 2018: दिल्ली में छठ पूजा के लिए 1000 घाट बनकर तैयार

पूर्वांचल के लगभग 40 लाख से ज्यादा लोग दिल्ली में हैं. हर साल लाखों लोग छठ की पूजा करते हैं. इसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने यह कदम उठाया है

Updated On: Nov 10, 2018 05:15 PM IST

FP Staff

0
Chhath Pooja 2018: दिल्ली में छठ पूजा के लिए 1000 घाट बनकर तैयार
Loading...

यूपी बिहार के सबसे पावन त्योहार छठ की धूम दिल्ली में भी दिखाई देती है. दिल्ली में हजारों लोग छठ पूजा करते हैं और नजदीक में घाट न होने के कारण उन्हें दूर दूर तक जाना पड़ता है. इसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने इस साल 1000 छठ पूजा के घाट बनाने का निश्चय किया है.

दिल्ली तीर्थ यात्रा विकास समिति के चेयरमैन कमल बंसल का कहना है कि पिछले साल सरकार ने छठ पूजा करने के लिए पूरे शहर में 609 जगहों की पहचान की थी. इस बार उसे बढ़ाकर एक हजार किया जा रहा है. इससे व्रत करने वालों और श्रद्धालुओं को एक या दो किलोमीटर से ज्य्दा दूर नहीं जाना पड़ेगा.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक यमुना नदी के अलावा इस बार कई जगहों पर घाट बनाए गए हैं. इसके साथ ही तीनों नगर निगमों, पीडब्लूडी और डीडीए के अंतर्गत आने वाले कई पार्कों में भी छोटे छोटे तलाब बनाए जा रहे हैं. दिल्ली सरकार में विकास मंत्री गोपाल राय ने आईटीओ के नजदीक हाथी घाट का मुआयना किया. उनके साथ राजस्व और सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे.

गोपाल राय ने बताया कि जब दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी थी तब राजधानी में लाखों छठ व्रत करने वालों के लिए सिर्फ 60 घाट ही थे. लेकिन आम आदमी पार्टी ने यह सुनिश्चित किया कि लाखों श्रद्धालुओं के पर्याप्त मात्रा में घाट हों ताकि वो आराम से बिना किसी तकलीफ के पूजा कर सकें. श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए भी सरकार ने कई कदम उठाए हैं.

दिल्ली में बिहार और उत्तरप्रदेश के लगभग 40 लाख से ज्यादा वोटर हैं और दिल्ली के चुनावों में उनकी मुख्य भूमिका होती है.

यह भी पढ़ें:

Chhath Pooja 2018: जानिए कब से शुरू होगी छठ पूजा और क्या है इसका महत्व

यात्री सुविधा: दिवाली और छठ पर रेलवे के दावों में कितना दम?

दिवाली छठ के लिए ट्रेन टिकट नहीं मिला तो गो एयर से सिर्फ 1,313 रुपए में फ्लाइट से जाएं

 

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi