S M L

CA, इंजीनियर, वकीलों को फेल कर चपरासी बना विधायक का बेटा

क्लास- 4 के इस नौकरी के लिए 12, 453 आवेदकों में कम से कम 129 इंजीनियर, 23 वकील, एक चार्टर्ड अकाउंटेंट और 393 आर्ट से पोस्ट ग्रेजुएट शामिल थे.

FP Staff Updated On: Jan 05, 2018 04:45 PM IST

0
CA, इंजीनियर, वकीलों को फेल कर चपरासी बना विधायक का बेटा

राजस्थान विधानसभा सचिवालय में चपरासी (क्लास- 4) की 18 सीटों के लिए बहाली निकली थी. इन सीटों के लिए जिन आवेदकों ने अप्लाई किया था, उनकी शैक्षणिक योग्यता चौंकाने वाली है. 12, 453 आवेदकों में कम से कम 129 इंजीनियर, 23 वकील, एक चार्टर्ड अकाउंटेंट और 393 आर्ट से पोस्ट ग्रेजुएट शामिल थे.

इनमें से जिन 18 लोगों का आखिरकार चयन हुआ उनमें से एक बीजेपी विधायक का पुत्र भी शामिल है. इस पद के लिए रामकृष्ण मीणा का चयन राजस्थान समेत पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था. इतने अधिक योग्य उम्मीदवारों के बीच मीणा का सेलेक्शन होना और लिस्ट में 12वें नंबर पर नाम आने सबके लिए चौंकाने वाला था.

कांग्रेस ने की है उच्चस्तरीय जांच की मांग

विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने सत्ताधारी बीजेपी की आलोचना की है. राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने विधानसभा में क्लास- 4 के कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया में उच्चस्तरीय जांच की मांग की है.

पायलट ने आरोप लगाया कि राजस्थान में युवाओं के बीच बेरोजगारी मौजूदा सरकार द्वारा उठाए गए नीतियों का परिणाम है. बीजेपी नेता अपने रिश्तेदारों को सरकारी नौकरियां दिलाने में मदद कर रहे हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, रामकृष्ण मीणा के पिता और जामवा रामगढ़ के विधायक जगदीश नारायण मीणा ने विपक्ष के आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि उनके बेटे के चयन में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है.

उन्होंने कहा कि मेरे पुत्र ने विधानसभा में नौकरी के लिए सामान्य प्रक्रिया के तहत आवेदन किया और एक इंटरव्यू के बाद उसका चयन किया गया.

प्रभाव का इस्तेमाल करता तो अपने बेटे के लिए कोई बड़ी नौकरी दिलाता

उन्होंने कहा कि विपक्ष का कहना है कि मैं अपने बेटे की नौकरी के लिए अपने विधायकी का इस्तेमाल किया. अगर मैं वास्तव में अपने प्रभाव का इस्तेमाल करता, तो अपने बेटे को चपरासी के काम के लिए क्यों मदद करता. अगर ऐसा होता तो मैं किसी बड़े पोस्ट के लिए अपने शक्ति का इस्तेमाल करता.

11 अक्टूबर को आवेदन प्रक्रिया बंद होने के बाद 12,453 लोगों का इंटरव्यू हुआ. जिसमें 3,600 से ज्यादा लोग अत्यधिक पढ़े लिखे थे. इसमें 1,533 आर्ट्स ग्रेजुएट, 23 साइंस से पोस्ट ग्रेजुएट और 9 एमबीए शामिल थे.

नौकरी पाने के लिए उम्मीदवार का कम से कम पांचवी तक पढ़ा होना अनिवार्य था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi