S M L

मां-बाप और बहन की हत्या करने वाला बेटा था ऑनलाइन गेम खेलने का आदी

पढ़ाई के लिए मां बाप की ओर से बार-बार दबाव डाले जाने के बाद सूरज ने अपने पूरे परिवार के हत्या की योजना बना डाली और खुद को निर्दोष साबित करने के लिए एक कहानी गढ़कर उसने खुद को भी घायल कर लिया

Updated On: Oct 12, 2018 02:14 PM IST

FP Staff

0
मां-बाप और बहन की हत्या करने वाला बेटा था ऑनलाइन गेम खेलने का आदी

दिल्ली के वसंत कुंज स्थित किशनगढ़ में अपने ही माता-पिता और बहन की हत्या करने वाले 19 वर्षीय लड़के सूरज को लेकर पुलिस ने कई खुलासे किए हैं.पुलिस ने बताया कि आरोपी सूरज ऑनलाइन गेम खेलने का आदी था. उसने घरवालों को बिना बताए मेहरौली में एक कमरा किराए पर लिया हुआ था. यहां वह अपने दोस्तों के साथ क्लास बंक कर के समय गुजारा करता था.

मामले की जांच के दौरान मिली जानकारी के अनुसार सूरज एक वाह्ट्सएप ग्रुप से भी जुड़ा हुआ था. इस ग्रुप में सूरज के 10 और दोस्त थें, इनमें लड़कियां भी शामिल थीं.

ग्रुप में ही कॉलेज बंक करने, घूमने जाने जैसी चीजें तय हुआ करती थीं. सूरज अपने दोस्तों के नजर में भगवान था, सभी उसे अपना आदर्श मानते थे. क्लास बंक कर के अक्सर सूरज और उसके सभी दोस्त मेहरौली स्थित उसके कमरे में टीवी देखते या पग बी गेम खेला करते थे.

लेकिन सूरज ने अपने मां-बाप की हत्या क्यों की?

पढ़ाई के लिए मां बाप की ओर से बार-बार दबाव डाले जाने के बाद सूरज ने अपने पूरे परिवार के हत्या की योजना बना डाली और खुद को निर्दोष साबित करने के लिए एक कहानी गढ़कर उसने खुद को भी घायल कर लिया. यहां तक कि पुलिस की पूछताछ में भी उसने पुलिस को कई कहानियां गढ़कर सुनाईं लेकिन पुलिस की कड़ी पूछताछ में आखिरकार उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया.

19 साल का सूरज गुरुग्राम के इंजीनियरिंग कॉलेज से सिविल इंजनीयरिंग के पहले साल का छात्र था. लेकिन वो पढ़ाई को लेकर बहुत गंभीर नहीं था, जिसकी वजह से उसके पिता की ओर से उसे काफी लताड़ मिलती थी.

अगस्त में उसके पिता ने उसे पढ़ाई न करने की जगह पतंग उड़ाते रहने के लिए पीटा था और घर से निकालने की धमकी दी थी, जिसके बाद से ही वो गुस्से में था और बदला लेने की योजना बना रहा था. रिपोर्ट में ये भी सामने आया है कि वो पहले आत्महत्या करना चाहता था लेकिन फिर उसने फैसला लिया कि सजा उसे नहीं उसके परिवार को मिलनी चाहिए.

हत्या को अंजाम देने के लिए उसने चाकू और कैंची खरीदी. रात में तकरीबन तीन बजे उसने अपने पिता मिथिलेश वर्मा (44) और सिया (38) की चाकुओं से घोंपकर हत्या की. फिर वो अपनी 15 साल की बहन नेहा के कमरे में गया. हत्यारे ने पहले अपनी बहन को जगाया फिर उसे चार बार चाकू घोंपा, जिससे उसकी मौत हो गई. इस दौरान उसे भी थोड़ी चोटें आईं, जिनकी मदद से उसने खुद को घायल दिखाया.

साढ़े पांच बजे के तकरीबन उसने अपनी बालकनी से नीचे गुजर रहे एक पड़ोसी को बुलाया और बताया कि उसके घर लुटेरे आए थे और उन्होंने उसके परिवारवालों की हत्या कर दी है. जिसके बाद पुलिस को जानकारी दी गई. परिवार के तीनों सदस्यों को अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi