S M L

तमिलनाडु के प्रमुख मंदिरों के प्रसाद को मिलेगा FSSAI का टैग

इस कवायद का मकसद गुणवत्ता सुनिश्चित करना और मानकीकरण करना है. शुरुआत श्री पलानी मुरुगन मंदिर के पंचामृतम से की जा रही है

Bhasha Updated On: Jul 13, 2018 07:37 PM IST

0
तमिलनाडु के प्रमुख मंदिरों के प्रसाद को मिलेगा FSSAI का टैग

तमिलनाडु में हिंदू धार्मिक और परोपकारी धमार्थ विभाग द्वारा संचालित 47 बड़े मंदिरों को उनके प्रसादम के लिए भारत के खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) का प्रमाणपत्र मिलेगा.

इस कवायद का मकसद गुणवत्ता सुनिश्चित करना और मानकीकरण करना है. शुरुआत श्री पलानी मुरुगन मंदिर के पंचामृतम (केला, घी, शहद, चीनी और खजूर से बने प्रसाद) से की जा रही है. एक अधिकारी ने बताया, ‘पलानी मुरुगन मंदिर हमारी पायलट परियोजना है. हमने अन्य 46 मंदिरों में एफएसएसएआई प्रमाणन की प्रक्रिया शुरू की है. मुरुगन मंदिर के पंचामृतम प्रसादम पर अब एफएसएसएआई का लाइसेंस नंबर, कीमत, वजन और उपयोग की आखिरी तारीख दर्ज है.

इस पहल की वजह के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया, ‘गुणवत्ता सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है. कुछ निजी मंदिरों में प्रसाद खाकर भक्तों के बीमार होने की घटनाओं पर हमारा ध्यान गया और हमने लाइसेंस लेने का फैसला किया.’

इस साल अप्रैल में कोयंबटूर के निकट मेट्टूपलायम में एक निजी प्रबंधन वाले मंदिर में प्रसादम खाने के बाद दो महिलाओं की मौत हो गई थी और 30 लोग बीमार हो गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi