live
S M L

जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों का 40 दिन से चल रहा आंदोलन खत्म

किसानों ने ये फैसला तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी की अपील के बाद किया है

Updated On: Apr 23, 2017 07:50 PM IST

FP Staff

0
जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों का 40 दिन से चल रहा आंदोलन खत्म

जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के सूखा पीड़ित किसानों का 40 दिनों से चला आ रहा आंदोलन रविवार की शाम को समाप्त हो गया. किसानों ने 25 मई तक के लिए धरना टाल दिया है.

किसानों ने ये फैसला तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी की अपील के बाद किया है. ईके पलानीसामी ने रविवार को किसानों से मुलाकात कर उनसे धरना-प्रदर्शन बंद करने की अपील की थी साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  के साथ उनकी मीटिंग करवाने का भरोसा दिलवाया था.

कभी नंगे होकर तो कभी मूत्र पीकर किया था प्रदर्शन 

ये किसान 40 दिनों से अजीबो-गरीब तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे. सरकार का ध्यान अपनी दुर्दशा की ओर दिलाने के लिए ये किसान अलग-अलग तरीके से विरोध कर रहे थे. कभी वो अपनी आधी मूंछ कटवा रहे थे तो कभी सिर मुंडवा रहे थे.

यह भी पढ़ें: आखिर जंतर-मंतर पर किसान नरमुंड लिए प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं?

कभी अपने मुंह में सांप लेकर तो कभी चूहा लेकर भी किसानों ने प्रदर्शन किया था. किसान खुद को कोड़े मार रहे थे और ऋण के दबाव के कारण खुदकुशी करने वाले किसानों की प्रतीकात्मक खोपड़ी लेकर प्रदर्शन कर रहे थे.

tamilnadu farmers

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात न हो पाने से नाराज किसानों ने विरोध प्रदर्शन के रूप में पीएम आवास के पास कपड़े उतारकर दौड़ भी लगाई थी.

शनिवार को जंतर-मंतर पर उस वक्त हड़कंप मच गया, जब किसानों ने अपना ही यूरिन पीकर प्रदर्शन किया. किसान यूरिन बोतल में लेकर आए और मीडिया के सामने जैसे पीना शुरू किया पुलिस भी सकते में आ गई थी.

मांगा 40 हजार करोड़ रुपए का सूखा राहत पैकेज 

लगभाग 100 की संख्या में आए इन किसानों ने केंद्र सरकार से 40 हजार करोड़ रुपए का सूखा राहत पैकेज देने की मांग की है.

इन किसानों का कहना है कि बैंकों और स्थानीय कर्जदाताओं की प्रताड़ना से तंग आकर तमिलनाडु के किसान अब आत्महत्या करने को विवश हो गए हैं. पिछले कुछ महीनों में लगभग 300 किसानों की मौत हो गई है.

फिलहाल से किसान तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद वापस तमिलनाडु लौट रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi