S M L

छोटी उम्र से ही रेडियो पर रवीन्द्र संगीत सुनते थे मोदी

उन्होंने कहा छोटी उम्र से ही सुबह जल्दी उठ कर रेडियो पर रवीन्द्र संगीत सुनना उनकी आदत बन गई थी

Updated On: Apr 29, 2018 04:47 PM IST

FP Staff

0
छोटी उम्र से ही रेडियो पर रवीन्द्र संगीत सुनते थे मोदी

गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर को नमन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वह बांग्ला भाषा तो नहीं जानते हैं लेकिन छोटी उम्र से ही सुबह जल्दी उठ कर रेडियो पर रवीन्द्र संगीत सुनना उनकी आदत बन गई थी.

‘मन की बात’ कार्यक्रम में अपने संबोधन में मोदी ने कहा, ‘गुरुदेव टैगोर ज्ञान और विवेक से सम्पूर्ण व्यक्तित्व वाली हस्ती थे, जिनकी लेखनी ने हर किसी पर अपनी अमिट छाप छोड़ी.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर प्रतिभाशाली और बहुआयामी व्यक्तित्व थे, लेकिन उनके भीतर एक शिक्षक हर पल अनुभव किया जा सकता है. उन्होंने गीतांजलि में लिखा है कि जिसके पास ज्ञान है, उसकी यह जिम्मेदारी है कि वह उसे जिज्ञासुओं के साथ बांटे.

पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के देवीतोला गांव के आयन कुमार बनर्जी ने इस संदर्भ में प्रधानमंत्री से आग्रह किया था.

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरुदेव टैगोर ज्ञान और विवेक से सम्पूर्ण व्यक्तित्व वाली हस्ती थे, जिनकी लेखनी ने हर किसी पर अपनी अमिट छाप छोड़ी.

उन्होंने कहा, ‘मैं बांग्ला भाषा तो नहीं जानता हूं, लेकिन जब छोटा था तब मुझे बहुत जल्दी उठने की आदत थी. पूर्वी हिंदुस्तान में रेडियो जल्दी शुरू होता है, पश्चिम हिंदुस्तान में देर से शुरू होता है तो सुबह मोटा-मोटा मुझे अंदाज़ है; शायद साढ़े पांच बजे रवींद्र संगीत प्रारंभ होता था रेडियो पर, और मुझे उसकी आदत थी.’

मोदी ने कहा, ‘जब आनंदलोके और आगुनेर, पोरोशमोनी- ये कविताएं सुनने का अवसर मिलता था, तब मन को बड़ी ही स्फूर्ति मिलती थी.’

उन्होंने कहा कि आपको भी रवीन्द्र संगीत ने, उनकी कविताओं ने ज़रुर प्रभावित किया होगा. ‘मैं रवीन्द्र नाथ ठाकुर को आदरपूर्वक अंजलि देता हूं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi