S M L

दिल्ली-एनसीआर में फैल रहा है स्वाइन फ्लू का कहर, गुरुग्राम में सबसे ज्यादा प्रभाव

स्वाइन फ्लू का कहर देश के कई राज्यों में जारी है. तकरीबन 170 लोगों की मौत स्वाइन फ्लू की चपेट में आने की वजह से हो चुकी है.

Updated On: Jan 30, 2019 06:29 PM IST

Pankaj Kumar Pankaj Kumar

0
दिल्ली-एनसीआर में फैल रहा है स्वाइन फ्लू का कहर, गुरुग्राम में सबसे ज्यादा प्रभाव

स्वाइन फ्लू का कहर देश के कई राज्यों में जारी है. तकरीबन 170 लोगों की मौत स्वाइन फ्लू की चपेट में आने की वजह से हो चुकी है. राजस्थान, गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र, पंजाब और हरियाणा में इसका असर खास तौर पर देखा जा रहा है. राजस्थान में स्वाइन फ्लू की चपेट में आकर 75 लोगों की मौत हो चुकी है वहीं गुजरात में यह संख्या 24 है और पंजाब में यह संख्या 27 बताई जा रही है जबकि हरियाणा में मरने वालों की संख्या आठ है महाराष्ट्र में 12 और उत्तराखंड में यह संख्या 13 के आसपास बताई जा रही है.

एनसीआर में सबसे ज्यादा मरीज गुरुग्राम के, सबसे कम नोएडा में

दिल्ली एनसीआर में स्वाइन फ्लू से मरने वालों की संख्या का फिलहाल कोई जिक्र नहीं है लेकिन इस रोग से ग्रसित लोगों की संख्या दिल्ली और एनसीआर में सबसे ज्यादा गुरुग्राम में बताई जा रही है. गुरुग्राम में यह संख्या 56 बताई जा रही है वहीं फरीदाबाद में 43 और गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू के 33 कन्फर्म मरीज सामने आ चुके हैं. नोएडा में 13 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है.

नोएडा के सीएमओ डॉ. अजेय अग्रवाल के मुताबिक नोएडा में स्वाइन फ्लू की संख्या इक्का-दुक्का है जिसे दवा देकर आराम करने की सलाह दी गई है. यहां मरीजों की संख्या में किसी भी प्रकार से कोई इजाफा नहीं हुआ है.

नोएडा मेट्रो अस्पताल की एमएस डॉ. कनिका कहती हैं कि मरीजों की आवाजाही समान्य है. स्वाइन फ्लू से पीड़ित गंभीर मरीज अभी तक हमारे अस्पताल में कोई आया नहीं है. कुछ इक्के-दुक्के मरीज आते हैं तो उन्हें जांच करने के बाद दवा मुहैया करा दी जाती है लेकिन मरीजों की संख्या में इजाफा जैसा कुछ भी नहीं है.

लेकिन गाजियाबाद के यशोदा अस्पताल के जीएम ऑपरेशन डॉ. सुनील डागर के मुताबिक मरीजों की संख्या में इस साल काफी इजाफा हुआ है. पिछले साल इक्के-दुक्के मरीज नजर आते थे लेकिन इस बार पहले महीने ही काफी संख्या में मरीज स्वाइन फ्लू पॉजिटिव पाए गए हैं. दिल्ली में ये चिंताजनक इसलिए बन चुका है क्योंकि अब तक स्वाइन फ्लू से ग्रसित मरीजों की संख्या 532 बताई जा रही है जबकि पिछले साल कुल 205 स्वाइन फ्लू से ग्रसित मरीज दर्ज किए गए थे. जाहिर है एक महीने में 532 की संख्या को छूना पिछले बारह महीनों में दर्ज किए गए कुल मरीजों की संख्या से कहीं ज्यादा है.

राजस्थान में अब तक 75 की मौत

राजस्थान में तकरीबन 1800 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हो चुकी है. शनिवार और शुक्रवार को 3 और 5 रोगियों की मौत से पूरी सरकार सकते में है. इस बाबत सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत, स्वास्थ्य मंत्री रघुराम शर्मा और विभाग के आला अधिकारियों नें ताजा उपजे हालात की समीक्षा की और जल्द से जल्द नियंत्रण पाने पर जोर दिया. सूत्रों के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार ने इस बारे में राज्य सरकार से मंत्रणा की और इस बाबत जरूरी उपाय करने के निर्देश भी दिए.

दिल्ली सरकार ने भी जारी की एडवाइजरी

स्वाइन फ्लू की बढ़ती संख्या की वजह से दिल्ली सरकार ने भी एडवाइजरी जारी की है. सरकार ने कहा है कि स्वाइन फ्लू एयर बॉर्न डिजीज है इसलिए यह आदमी के द्वारा ही दूसरे आदमी में फैलती है. यह कफिंग, स्नीजिंग, संक्रमित व्यक्ति द्वारा छूई गई वस्तूओं जैसे कि मोबाइल, कंप्यूटर को छूने और संक्रमित व्यक्ति से गले मिलने और किस करने से फैलती है. इसलिए इस तरह के लोगों से फिलहाल बचने की जरूरत है. प्रत्येक व्यक्ति को कफिंग और स्नीजिंग खुले में करने से रोका गया है और उन्हें मुंह पर रुमाल बांध कर ऐसा करने की सलाह दी गई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi