S M L

सर्जिकल स्ट्राइक हमारी ताकत को दर्शाता है, जरूरत पड़ी तो दोबारा करेंगे: वाइस चीफ ऑफ आर्मी

वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अंबू ने कहा कि हिन्दुस्तानी फौज ने पहले भी सर्जिकल स्ट्राइक कर अपनी काबिलियत दिखा दी है, अगर दुश्मन अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो दोबारा सर्जिकल स्ट्राइक से पीछे नहीं हटेंगे

Updated On: Dec 09, 2018 11:39 AM IST

FP Staff

0
सर्जिकल स्ट्राइक हमारी ताकत को दर्शाता है, जरूरत पड़ी तो दोबारा करेंगे: वाइस चीफ ऑफ आर्मी

पिछले कुछ दिनों से सर्जिकल स्ट्राइक का मुद्दा काफी गरमाया हुआ है. सेना प्रमुख बिपिन रावत ने भी इस मामले पर अपना बयान दिया था और अब वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अंबू ने इसे लेकर कई बाते कही हैं.

न्यूज़18 की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने बीते शनिवार को कहा कि हिन्दुस्तानी फौज ने पहले भी सर्जिकल स्ट्राइक कर अपनी काबिलियत दिखा दी है. अगर दुश्मन अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो दोबारा सर्जिकल स्ट्राइक से पीछे नहीं हटेंगे और ऐसा कभी भी कर दिया जाएगा. जरूरत पड़ी तो इसके लिए सीमा भी पार करेंगे और दुश्मन को इसका जवाब देंगे.

सर्जिकल स्ट्राइक से दुश्मन को अपनी ताकत का एहसास करवा चुके हैं

बीते शनिवार को आईएमए की पासिंग आउट परेड में देहरादून पहुंचे वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अंबू ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमारी सेना दुश्मन का सामना करने के लिए पूरी तरह से तैयार है. हम दुश्मन की नापाक हरकतों को किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम सर्जिकल स्ट्राइक से दुश्मन को अपनी ताकत का एहसास करवा चुके हैं. यह तो एक नमूनाभर था, यदि भविष्य में फिर से सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत पड़ती है हम ऐसा करने से किसी भी सूरत में पीछे नहीं हटेंगे.

महिलाओं को बेहतर ट्रेनिंग देकर सेना में अफसर बनाया जा रहा है

आईएमए में महिलाओं की ट्रेनिंग करवाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी महिलाओं की ट्रेनिंग ओटीए चेन्नई में हो रही है. वहां महिलाओं को बेहतर ट्रेनिंग देकर सेना में अफसर बनाया जा रहा है. बाकी विंग में भी महिलाओं को सेना चरणबद्ध तरीके से ले रही है और आईएमए देहरादून भी इसका हिस्सा है, लेकिन एक रणनीति के तहत इस काम को किया जा रहा है. फिलहाल आईएमए के लिए ऐसी कोई प्रक्रिया नहीं चल रही है.

डीएस हुडा के बयान पर सेनाध्यक्ष बिपिन रावत का बयान आया था

इससे पहले सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा के बयान पर सेनाध्यक्ष बिपिन रावत का बयान आया था. उनका कहना था कि वह हुडा के शब्दों की इज्जत करते हैं. बिपिन रावत ने कहा था, 'यह एक व्यक्ति की अपनी निजी धारणा है इसलिए इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं. वह उन प्रमुख व्यक्तियों में शामिल हैं जिन्होंने इस ऑपरेशन का संचालन किया इस वजह से मैं उनके शब्दों का बहुत सम्मान करता हूं.'

सर्जिकल स्ट्राइक आर्मी के पास उपलब्ध ऑप्शन्स में से एक है

बता दें कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर यानी Pok में छिपकर बैठे आतंकियों के खिलाफ भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के करीब दो साल बाद रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा ने इसे लकेर एक बड़ा बयान दिया था. उनका मानना है कि इस मामले को जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया. जरूरत से ज्यादा इसे सबके सामने लाया गया. वहीं डी एस डुडा के बयान पर GOC Northern Command के रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा था- सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कुछ ज्यादा ही शोर मचाया जा रहा है. सर्जिकल स्ट्राइक आर्मी के पास उपलब्ध ऑप्शन्स में से एक है. इसका देश पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है. हम काफी हद तक आतंकवाद को रोकने में सक्षम हुए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi