S M L

कोर्ट ने यमुना नदी प्रदूषण का मामला एनजीटी को ट्रांसफर किया

चीफ जस्टिस की बेंच ने कहा एक ही मुद्दे पर विचार के लिए दो समानांतर अधिकार क्षेत्र नहीं हो सकते हैं

Updated On: Apr 24, 2017 05:37 PM IST

Bhasha

0
कोर्ट ने यमुना नदी प्रदूषण का मामला एनजीटी को ट्रांसफर किया

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को 23 साल पुरानी जनहित याचिका नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल को ट्रांसफर कर दी. यह याचिका यमुना में प्रदूषण को लेकर दायर की गई थी.

एक मुद्दे पर दो समानांतर अधिकार क्षेत्र नहीं हो सकते

चीफ जस्टिस जगदीश सिंह खेहर और जस्टिस धनंजय वाई चंद्रचूड़ की बेंच ने कहा कि एक ही मुद्दे पर विचार के लिए दो समानांतर अधिकार क्षेत्र नहीं हो सकते हैं.

बेंच ने इस जनहित याचिका को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के यहां ट्रांसफर कर दी. कोर्ट ने एक इंग्लिश पेपर में प्रकाशित खबर का स्वत: संज्ञान लेते उसे जनहित याचिका में तब्दील कर दिया था. यह खबर यमुना में प्रदूषण की स्थिति के बारे में थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi