S M L

पुरी के जगन्नाथ मंदिर में हथियार लेकर और जूते पहनकर नहीं जा पाएगी पुलिस

तीन अक्टूबर को एक सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन ने पंक्तिबद्ध दर्शन की व्यवस्था के विरोध में 12 घंटे का बंद रखा था. इस दौरान मंदिर परिसर में हुई हिंसा में नौ पुलिसकर्मी घायल हो गए थे

Updated On: Oct 10, 2018 01:38 PM IST

Bhasha

0
पुरी के जगन्नाथ मंदिर में हथियार लेकर और जूते पहनकर नहीं जा पाएगी पुलिस

सुप्रीम कोर्ट ने पुरी के जगन्नाथ मंदिर में पुलिस कर्मियों के जूते पहनकर और हथियार लेकर अंदर घुसने पर रोक लगा दी है. सुप्रीम कोर्ट का फैसला जगन्नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए कतार लगाकर दर्शन करने की व्यवस्था लागू करने के दौरान तीन अक्टूबर को हुई हिंसा के मामले में आया है.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए बुधवार को कहा कि कोई भी पुलिसकर्मी हथियार लेकर और जूते पहनकर मंदिर में प्रवेश नहीं करे.

हिंसा में 9 पुलिसकर्मी हुए थे घायल 

तीन अक्टूबर को एक सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन ने पंक्तिबद्ध दर्शन की व्यवस्था के विरोध में 12 घंटे का बंद रखा था. इस दौरान मंदिर परिसर में हुई हिंसा में नौ पुलिसकर्मी घायल हो गए थे.

47 लोग हुए गिरफ्तार

मामले पर बुधवार को सुनवाई के दौरान ओडिशा सरकार ने कोर्ट को बताया कि पुरी के जगन्नाथ मंदिर में हुई हिंसा के सिलसिले में 47 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और वहां स्थिति नियंत्रण में है.

सरकार ने बताया कि जगन्नाथ मंदिर के भीतर कोई हिंसा नहीं हुई थी. मंदिर प्रशासन के कार्यालय पर हमला कर उसमें तोड़फोड़ की गई थी.

मंदिर के अधिकारी ने बताया कि कतार लगाकर दर्शन की व्यवस्था प्रायोगिक आधार पर शुरू की गई है और इसकी समीक्षा की जाएगी क्योंकि स्थानीय लोग और सेवादार इसका विरोध कर रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi