S M L

सुहैब इलियासी: 'इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड' स्टार से क्रिमिनल तक का सफर

सुहैब के शो इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड के पीछे उनकी पत्नी की अच्छी खासी मेहनत थी

Updated On: Dec 20, 2017 04:58 PM IST

FP Staff

0
सुहैब इलियासी: 'इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड' स्टार से क्रिमिनल तक का सफर

दूरदर्शन में न्यूज़ रीडर होते थे. आज की तारीख में ऐंकर होते हैं. अगर भारत में पहले स्टार ऐंकर की बात करें तो ज्यादातर लोगों के दिमाग में सबसे पहले सुहैब इलियासी का ही नाम आएगा.

1998 में एयर हुए शो 'इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड' ने सुहैब को रातों-रात सुपर स्टार बना दिया. इसके बाद अचानक से उनपर पत्नी की हत्या का आरोप लगा. 20 दिसंबर 2017 को शोहरत पाने के करीब 2 दशक बाद उन्हें दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने उम्र कैद हुई है. आइए बिंदुओं में देखते हैं. इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड के स्टार ऐंकर के अर्श और फर्श के सफर को.

जामिया में प्रेम लंदन में शादी

सुहैब 1989 में दिल्ली की जामिया यूनिवर्सिटी में पत्रकारिता के छात्र थे. उनके साथ ही अंजू भी पढ़ती थीं. सुहैब ने अंजू से शादी के लिए घर छोड़ दिया. दोनों ने 1993 में लंदन में जाकर शादी की. दोनों 1994 में वापस भारत आगए. अंजू वापस आकर अलग रहने लगीं. दोनों में सुलह हुई. 1995 में अंजू ने एक बेटी को जन्म दिया.

इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड की सफलता

1998 में रिलीज़ हुआ शो इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड सुपरहिट होगया. शो का कॉन्सेप्ट लंदन के शो क्राइम स्टॉपर से नकल किया गया था. जमीन पर खास रिपोर्टिंग किए बिना ही सुहैब क्राइम रिपोर्टिंग का सबसे बड़ा नाम हो गए. देश भर में तमाम अपराधियों के पकड़े जाने और मारे जाने को शो का असर बताया जाता था. यूपी के कुख्यात सरगना श्रीप्रकाश शुक्ला के इनकाउंटर को भी सुहैब ने अपने खाते में जोड़ा. कहा जाता है कि इस बात ने कई पुलिसवालों को नाराज़ कर दिया.

सुहैब और अंजू

सुहैब और अंजू

सफलता के बाद विवाद

इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड का कॉन्सेप्ट अंजू और सुहैब ने मिल-जुलकर बनाया था. बताया जाता है मेहनत में अंजू का हिस्सा ज्यादा था. शो के पायलट में अंजू ही ऐंकर थीं. मगर सुहैब ने इसे ऐसे पेश किया कि ये उनका अकेले का काम हो. इसको लेकर दोनों में विवाद हुए. अंजू ने दिल्ली के मयूर विहार में 1.5 करोड़ का फ्लैट खरीदा था. सुहैब इसमें ही रह रहे थे. दोनों के अलग होने का अर्थ था सुहैब के पास से बहुत कुछ चला जाना.

चाकुओं से हत्या या आत्महत्या

10 जनवरी 2000, पुलिस को रात में अंजू इलियासी की लाश मिली. चाकुओं से गोद दिए गए शरीर के बारे में कहा गया कि आत्महत्या है. अंजू की बहन रश्मि के अलावा सबने सुहैब को क्लीन चिट दी. रश्मि इसमें हत्या होने पर अड़ी रहीं. शुरुआत में कई लोगों को लगा कि शायद अपराधियों से टक्कर लेने के चलते ‘फंसाया’ गया हो. मगर कोर्ट ने उन्हें दोषी पाया. आखिरकार साबित हुआ कि अंजू ने आत्महत्या नहीं की थी, उसकी हत्या हुई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi