S M L

सबरीमाला: श्रद्धालुओं के बीच बुनियादी सुविधाओं को लेकर चिंता

पूजा के दौरान मंदिर में हर दिन 25,000 से एक लाख तक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है

Updated On: Nov 12, 2018 04:52 PM IST

Bhasha

0
सबरीमाला: श्रद्धालुओं के बीच बुनियादी सुविधाओं को लेकर चिंता

सबरीमला यात्रा शुरू होने में महज चार दिन बचे हैं और प्रशासन भगवान अयप्पा मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को लेकर तमाम इंतजाम करने में जुटा हुआ है. पूजा के लिए सभी आयु वर्ग की महिलाओं को सुप्रीम कोर्ट से अनुमति मिलने के बाद बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है.

अक्टूबर और इस महीने की पूजा के दौरान मंदिर के खुलने पर पश्चिमी घाट में पेरियार बाघ संरक्षित क्षेत्र में स्थित मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर लोग विरोध कर रहे हैं.

अगस्त में बाढ़ से भीषण तबाही के बाद पहली बार ‘मंडल मक्कारविलक्कू’ पूजा होगी. बाढ़ की वजह से पंबा में ठहरने के स्थान, शौचालय सहित आधारभूत संरचनाओं को बुरी तरह नुकसान पहुंचा.

दक्षिण पश्चिम मानसून के दौरान राज्य में सौ साल में आई सबसे भीषण बाढ़ के कारण 490 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और बहुत बड़े पैमाने पर तबाही हुई.

25 हजार से एक लाख लोग रोजाना आने की उम्मीद:

पूजा के दौरान मंदिर में हर दिन 25,000 से एक लाख तक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. पंबा और निकटवर्ती इलाके में सुविधाओं को लेकर श्रद्धालु थोड़े चिंतित भी नजर आ रहे हैं.

हर साल आने वाले श्रद्धालु रघु ने बताया कि बेस कैंप बनाए गए निलक्क्ल में ना तो ठहरने की पर्याप्त व्यवस्था है ना ही शौचालयों के इंतजाम किए गए हैं. उन्होंने कहा कि महिला श्रद्धालुओं को दिक्कतें हो सकती है.

हालांकि त्रावणकोर देवस्वओम बोर्ड के अध्यक्ष ए पद्मकुमार ने कहा कि पांच दिनों के भीतर निलक्कल में निर्माण संबंधी सभी कार्य पूरे कर लिए जाएंगे.

यह भी पढ़ें:

16 नवंबर को दर्शन के लिए खुलेगा सबरीमाला मंदिर,10 से 50 वर्ष की 550 महिलाओं ने कराया ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

शशि थरूर बोले- बीजेपी और RSS सबरीमाला को अपवित्र न करे

सबरीमाला विवाद पर टिप्पणी करने वाले बीजेपी नेता पीएस श्रीधरन पिल्लई के खिलाफ मुकदमा दर्ज

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi