S M L

गोल्ड प्राइस घटने से बायर्स की चांदी

दिवाली से पहले इंडियन गोल्ड मार्केट में खरीदारी का सेंटीमेंट मजबूत बना हुआ है

Updated On: Nov 17, 2016 10:16 AM IST

FP Staff

0
गोल्ड प्राइस घटने से बायर्स की चांदी

फेस्टिव सीजन से पहले गोल्ड प्राइस घटने का इंतजार करने वाले बायर्स की चांदी हो गई है.

दिवाली से पहले इंडियन गोल्ड मार्केट में खरीदारी का सेंटीमेंट मजबूत बना हुआ है. साथ ही ज्वैलर्स के आकर्षक ऑफर से भी खरीदारी बढ़ी है.

धनतेरस 28 अक्टूबर को है. इस दिन जमकर गोल्ड की खरीदारी होती है, क्योंकि धनतेरस के दिन खरीदारी शुभ मानी जाती है.

इंडिया गोल्ड ज्वैलरी में दुनिया का सबसे बड़ा मार्केट है. वहीं, गोल्ड इंपोर्ट में इसका दूसरा नंबर है. हाल के कुछ दिनों में गोल्ड सस्ता हुआ है.

भारतीय बायर्स ने इस मौके का फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.

इंडियन मार्केट में गोल्ड का भाव 30,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के मनोवैज्ञानिक लेवल से नीचे आ गया है.

इस साल मार्च और अप्रैल में ज्वैलर्स की हड़ताल से इंडस्ट्री को काफी नुकसान हुआ है.

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक कंज्यूमर्स और इनवेस्टर्स कीमतों में और गिरावट का इंतजार कर सकते हैं.

2015 की तीसरी तिमाही इसका अच्छा उदाहरण है. इस दौरान गोल्ड प्राइस में 7 पर्सेंट की गिरावट आई, जिससे डिमांड में अच्छी तेजी आई.

धनतेरस पर गोल्ड और सिल्वर के अलावा डायमंड्स की खरीदारी भी बढ़ी है.

गोल्ड प्राइस ऐसे समय में गिरा है जब कंज्यूमर्स पूरी तरह खरीदारी के मूड में हैं.

इस साल मॉनसून बेहतर रहने, शदियों का सीजन पास आने और धनतेरस के कारण खरीदारी बढ़ सकती है. हालांकि 2016 में गोल्ड की डिमांड पिछले सात साल में सबसे कमजोर रही है.

पिछले साल इंडिया ने 864 टन गोल्ड खरीदा था. यह ग्लोबल डिमांड का करीब एक चौथाई है. 2010 में इंडिया ने 1006 टन गोल्ड खरीदा था.

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल ने अगस्त 2016 में यह अनुमान जताया था कि गोल्ड कंजम्पशन 750 से 850 टन रहेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi