S M L

महिला पार्षद ने श्रीनगर के मेयर पर लगाया यौन शोषण का आरोप, मट्टू ने किया पलटवार

श्रीनगर नगर पालिका के मेयर जुनैद मट्टू पर एक महिला पार्षद ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं, जिन्हें मट्टू ने खारिज किया है

Updated On: Jan 02, 2019 12:14 PM IST

FP Staff

0
महिला पार्षद ने श्रीनगर के मेयर पर लगाया यौन शोषण का आरोप, मट्टू ने किया पलटवार

श्रीनगर नगर पालिका (एसएमसी) के मेयर जुनैद मट्टू पर एक महिला पार्षद ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं, जिन्हें मट्टू ने खारिज किया है. मट्टू ने महिला पार्षद के उनके खिलाफ लगाए यौन उत्पीड़न के आरोपों को मंगलवार को खारिज किया और पार्षद की योग्यता रद्द करने की मांग की.

उन्होंने कहा कि उनके पास नगर पालिका के ज्यादातर पार्षदों का समर्थन है और उन्होंने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल एस पी मलिक को पत्र लिखकर ‘निराधार आरोप’ लगाने के लिए महिला पार्षद को अयोग्य ठहराने की मांग की है.

मट्टू ने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि पूरे मामले की जांच की जाए. भगवान साक्षी है कि मैं बेदाग हूं और मैंने कुछ गलत नहीं किया है. आरोप निराधार हैं और मैं चाहता हूं कि सच सामने आए.’

उन्होंने कहा, ‘मेरे पास 45 पार्षदों का समर्थन है. हमने राज्यपाल को पत्र लिखकर कहा कि जब तक इस महिला पार्षद को अयोग्य करार नहीं दिया जाता तब तक हम कार्यालय नहीं जाएंगे.’

एसएमसी के महापौर ने दावा किया कि उनके पास सबूत हैं कि महिला पार्षद उपमहापौर शेख इमरान की शह पर काम कर रही है. उन्होंने कहा, ‘हम उनके खिलाफ भी कार्रवाई चाहते हैं. वे भ्रष्टाचार करना चाहते हैं जिसे मैं करने नहीं दूंगा. मैं इमरान को एसएमसी को बेचने नहीं दूंगा.’

उन्होंने महिला पार्षद पर आरोप लगाया है कि उन्होंने उनके कर्मचारियों के साथ मारपीट की थी और ऑफिस में हंगामा मचाया था. उस वक्त वो ऑफिस में नहीं थे. पीड़ित सचिव ने उस महिला पर केस दर्ज कराया है.

एसएमसी में गैरकानूनी नियुक्ति करने के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर मट्टू ने कहा कि अगर कोई आरोप सिद्ध हुआ तो वह इस्तीफा दे देंगे. एसएमसी महापौर ने कहा कि वह महिला पार्षद के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे.

कांग्रेस की महिला पार्षद ने सोमवार को मट्टू पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. उसने मट्टू और उनके निजी सहायक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

महिला ने महापौर और उनके सहायक पर अन्य पार्षदों की मौजूदगी में उससे मारपीट करने का आरोप भी लगाया है.

पार्षद ने सोमवार को कहा था कि मेयर लगातार मुझ पर अकेले में मिलने का दबाव बना रहे थे. उन्होंने मेरा एक बार नहीं बल्कि कई बार उत्पीड़न किया है. मैंने विकास कार्यों के लिए 25 लाख रुपए के खर्च का अनुमान जमा किया था लेकिन उन्होंने उसे स्वीकार नहीं किया और मुझसे अकेले में मिलने को कहा.

(न्यूज एजेंसी से इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi