S M L

क्या है इंबामिंग, जिसके लिए गया था श्रीदेवी का पार्थिव शरीर?

श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को इंबामिंग के लिए भेजा गया है, आइए जानते हैं कि आखिर यह है क्या और कैसे किया जाता है

FP Staff Updated On: Feb 27, 2018 06:10 PM IST

0
क्या है इंबामिंग, जिसके लिए गया था श्रीदेवी का पार्थिव शरीर?

दुबई पुलिस ने श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को उनके परिवार को सौंपने की मंजूरी दे दी है. अब उनके पार्थिव शरीर की इंबामिंग होगी उसके बाद मुंबई वापस लाया जाएगा. अब आइए जानते हैं आखिर ये इंबामिंग क्या है और कैसे-कैसे किया जाता है.

इंबामिंग मृत शरीर को संरक्षित करने की एक प्रक्रिया है. इससे मृत शरीर को विघटित (डिकंपोज) होने में समय लगता है. शवों को सुरक्षित रखने के लिए इसका प्रयोग हजारों सालों से अलग-अलग तरीकों से किया जाता रहा है.

मृत्यु के बाद शरीर में रक्त और गैस नहीं रहता. इसमें एक तरल पदार्थ को डाला जाता है जिससे डिकंपोज होने की प्रक्रिया को धीमा किया जा सके.

इंबामिंग की प्रक्रिया

यह मुख्यतः दो प्रकार की होती है. एक आर्टेरियल और दूसरा कैविटी. आर्टेलियल में रक्त की जगह तरल पदार्थ डाला जाता है जबकि कैविटी में पेट और छाती से पानी निकाल कर उसमें कुछ भरा जाता है.

न्यूज-18 की खबर के मुताबिक, इंबामिंग को करने से पहले शव को डिसइंफेक्टेंट से धोया जाता है और शरीर शख्त न हो इसलिए मालिश किया जाता है. मौत के बाद मांसपेशियों और जोड़ों में कठोरता आने की संभावना रहती है.

आर्टेलिय इंबामिंग में नसों से रक्त को हटा दिया जाता है औऱ इसमें तरल पदार्थ डाला जाता है. यह आम तौर पर फॉर्मलडिहाइड, ग्लुटार्लडिहाइड, मेथानॉल, इथेनॉल, फिनॉल और पानी का मिश्रण होता है.

कैविटी इंबामिंग में छाती और पेट के अंदर के प्राकृतिक तरल पदार्थों को एक छोटे चीरा के माध्यम से निकाल दिया जाता है. इसके जगह पर इंबामिंग में प्रयोग होने वाले पदार्थ को डाल दिया जाता है और चीरा को बंद कर दिया जाता है.

इंबामिंग की प्रक्रिया पूरी होने के बाद मृत शरीर को दिखाने के लिए तैयार किया जाता है. इसे फिर से धोया जाता है और बालों को सजा कर मेकअप अप्लाई किया जाता है.

कब पड़ती है इंबामिंग की जरुरत

आम तौर पर इसकी जरुरत तब पड़ती है जब पार्थिव शरीर को एक राज्य या एक देश से दूसरे राज्य या दूसरे देश ले जाना हो या अंतिम संस्कार और मौत के बीच सप्ताह और उससे ज्यादा का समय हो.

दूसरा तब जब मौत किसी संक्रामक बीमारी के कारण हुई जिसके फैलाव को रोकने के लिए यह प्रक्रिया अपनाई जाती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi