S M L

Monday Full Update : श्रीदेवी का एक्सीडेंटल डेथ में आया 'शक' वाला एंगल

देश कर रहा था श्रीदेवी का इंतजार लेकिन दुबई पुलिस के दिमाग से नहीं निकला 'शक'

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: Feb 27, 2018 01:57 AM IST

0
Monday Full Update : श्रीदेवी का एक्सीडेंटल डेथ में आया 'शक' वाला एंगल

जैसे ही श्रीदेवी के फैंस ने उनके निधन की खबर सुनी थी, वो मुंबई में उनके घर के बाहर जमा होने लगे थे, इस इंतजार में कि रविवार को वो अपनी चहेती अभिनेत्री के अंतिम दर्शन कर लेंगे लेकिन सोमवार को भी उनका इंतजार बढ़ता ही गया लेकिन श्रीदेवी का पार्थिव शरीर मुंबई नहीं पहुंचा. सोमवार को कैसे बदली श्रीदेवी की मौत की कहानी हम आपको टाइमलाइन के हिसाब से समझाते हैं

7:00 AM माना जा रहा था कि श्रीदेवी को सोमवार सुबह तक मुंबई लाया जाएगा, इसलिए उनके घर बाहर फैंस का इकट्ठा होना शुरु है गया था

 

8:00 AM सुबह 8 बजे से अंतिम दर्शनों का टाइम रखा गया था और 12 बजे अंतिम संस्कार का

 

10:00 AM जैसे-जैसे दिन चढ़ने लगा, मीडिया में अलग-अलग खबरें आने लगीं. किसी ने कहा कि 4 बजे तक शव आ जाएगा लेकिन दुबई में कहानी कुछ दूसरी ही निकली

 

3:00 PM  शव का पोस्टमॉर्टम हुआ लेकिन पुलिस को जब ये पता चला कि मामला हार्ट अटैक का नहीं बल्कि बाथटब में हुई मौत का है तो उन्होंने अपनी जांच के दायरे को बढ़ा दिया

 

4:00 PM पोस्टमॉर्टम पूरा होने के बाद भी फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स इस बात पर जोर देते रहे कि उनका दूसरा पोस्टमॉर्टम भी होना चाहिए

 

5:00 PM दूसरे पोस्टमॉर्टम की थ्योरी को दोपहर बाद पुलिस ने नकार दिया और डेथ सर्टिफिकेट जारी कर दिया

 

6:00 PM डेथ सर्टिफिकेट में श्रीदेवी की मौत की वजह बाथटब में डूबना बताई गई और कहा गया कि इस केस में फिर से जांच की जरूरत है

 

7:00 PM बाथटब में डूबने की थ्योरी के बाद पुलिस ने मामला सरकारी वकील के पास ट्रांसफर कर दिया, जिन्हें होटल के स्टाफ समेत करीबी लोगों से फिर से पूछताछ करनी है

 

7:30 PM  सरकारी वकील यानी पब्लिक प्रॉसिक्यूटर को अब फिर से इस केस की जांच करनी है, पति बोनी कपूर के बयान दर्ज होने हैं, जिसके बाद हो सकता है कि बॉडी परिवार को सौंपकर उसे भारत रवाना कर दिया जाए

 

8:00 PM अब सब कुछ पब्लिक प्रॉसिक्यूटर पर निर्भर करता है कि जांच के बाद वो कितनी दिन में सबको क्लीन चिट देते हैं

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi