S M L

धीरे चलने वाले वाहनों को ईस्टर्न पेरिफेरल हाईवे पर चढ़ने की इजाजत नहीं

ईस्टर्न पेरिफेरल हाईवे पर 36 राष्ट्रीय स्मारक और 40 झरने भी प्रदूषण कम करने के मकसद से जुड़े हैं. सड़क के दोनों ओर साइकल ट्रैक बनाए गए हैं और 2 मीटर का फुटपाथ भी हैं

Updated On: Jun 21, 2018 03:35 PM IST

FP Staff

0
धीरे चलने वाले वाहनों को ईस्टर्न पेरिफेरल हाईवे पर चढ़ने की इजाजत नहीं

ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर सिर्फ दो पहिया वाहन ही नहीं, बल्कि सभी धीरे चलने वाले वाहनों को भी इसपर एंट्री नहीं कर दी जाएगी. इसमें तीन पहिया भी शामिल हैं. अभी हाल ही में पास हुए ऑर्डर के मुताबिक धीरे चलने वाली चारपहिया गाड़ियों को भी इस पर चढ़ने नहीं दिया जाएगा.

इस पर परिवहन और हाईवे मंत्रालय ने कहा था कि इस हाईवे को बनाने का अहम लक्ष्य था कि इस पर वाहन तेजी से दौड़ें. इसकी लंबाई कुल 135 किलोमीटर है जिसे पूर्ण रूप से तेजी से चलने वाले वाहनों के लिए बनाया गया है.

कुछ इसी प्रकार दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस-वे जब आम लोगों के लिए खुला था तो इसी प्रकार के निर्देश दिए थे, लेकिन खराब प्रवर्तन के चलते इस ऑर्डर को शायद ही फॉलो किया गया था. दूसरा, इस केस में था कि यह रोड बेहद चौड़ा था, लेकिन ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे है जहां एंट्री और एग्जिट नियमित है और प्रत्येक वाहन की एंट्री और एग्जिट दर्ज की जाी है.

ईस्टर्न पेरिफेरल हाईवे पर 36 राष्ट्रीय स्मारक और 40 झरने भी प्रदूषण कम करने के मकसद से जुड़े हैं. सड़क के दोनों ओर साइकल ट्रैक बनाए गए हैं और 2 मीटर का फुटपाथ भी हैं. इससे पैदल और साइकिल से चलने वालों की प्रेरणा और मौके भी मिला करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi