live
S M L

पॉलिटिकल प्रेशर में 'जमीन' पर उतारे गए 6 पायलट?

सीएम ममता बनर्जी की फ्लाईट लैंडिंग विवाद में 6 पायलटों पर गिरी गाज

Updated On: Dec 09, 2016 11:02 AM IST

Sindhu Bhattacharya

0
पॉलिटिकल प्रेशर में 'जमीन' पर उतारे गए 6 पायलट?

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के हवाई जहाज के लैंडिंग विवाद में 6 पायलटों की बलि चढ़ गई है. पिछले बुधवार ये सभी कोलकाता के लिए तीन अलग-अलग विमान उड़ा रहे थे. जानकारी के मुताबिक, ये साफ है कि ममता की जिंदगी कभी खतरे में नहीं थी.

इन तीनों विमानों की देरी होने की वजह ट्रैफिक की रूटीन व्यस्तता थी. तीनों विमानों के किसी भी पायलट ने इमरजेंसी घोषित नहीं की, न ही ईंधन खत्म होने की शिकायत की. तो मुख्यमंत्री की जान खतरे में डालने जैसी बात कहां से आई ? वो अकेली नहीं थीं. इनमें सैकड़ों यात्री सफर कर रहे थे, जो उनके जैसे ही सुरक्षित लैंडिंग का इंतजार कर रहे थे.

इससे यह साफ है कि डायरेक्टर जनरल सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने उड़ान सुरक्षा नियमों के बदले राजनीति के चलते  इतनी कड़ी कार्रवाई की है.

उस दिन विमानों में फ्यूल की कमी के लिए उसने इंडिगो, स्पाइस जेट और एयर इंडिया के 2-2 पायलटों के नाम रोस्टर से हटा दिए हैं. इन सभी को डी-रोस्टर कर दिया गया है, उन्हें ड्यूटी ज्वाइन करने से पहले सही ट्रेनिंग लेनी होगी.

कार्रवाई के लिए 'राजनीतिक दबाव'

सूत्रों के मुताबक डीजीसीए के अफसर भी इन सभी पायलटों पर कार्रवाई के लिए राजनीतिक दबाव की बात मानते हैं. हालांकि डायरेक्टर जनरल बी एस भुल्लर से इस बारे में बात नहीं हो सकी.

इंडिगो ने अपने पायलटों पर डीजीसीए की सख्ती का विरोध किया है. एयरलाइंस के प्रवक्ता ने कहा, इंडिगो की सेफ्टी डिपार्टमेंट की मदद से रेगुलेटर ने ये जांच पूरी की.

फ्लाइट 6E 342 को उड़ाने वाले पायलटों को जांच पूरी होने तक हटा दिया गया है. एक एयरलाइंस के तौर पर हम हमेशा डीजीसीए के निर्देशों का पालन करते हैं.

इंडिगो के पायलट ने रेगुलेटर की तय पूरा स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर या एसओपी को फॉलो किया. उसने किसी भी समय फ्यूल या इमरजेंसी होने की बात नहीं की. और कभी भी उन्होंने इमरजेंसी या फ्यूल की कमी की शिकायत की.

इंडिगो के अनुसार इस मामले में कोई भी नियम कानून नहीं तोड़े गए. इंडिगो के प्रवक्ता ने कहा कि वो पूरी जानकारी के साथ मामले को डीजीसीए के सामने ले जा रहे हैं.

बल्कि डीजीसीए के कहने पर पायलटों को हटाने वाले तीनों एयलाइंस ने मजबूती से ‘फ्यूल कम’ होने के आरोपों से इनकार किया है.

इंडिगो के अलावा, एयर इंडिया भी डीजीसीए के फैसले का विरोध करने पर विचार कर रहा है.

डीजीसीए के फैसले के खिलाफ स्पाइसजेट अपील करेगा या नहीं, इंडिगो एयरलाइंस की प्रवक्ता ने इसपर टिप्पणी नहीं की. लेकिन उसने कंफर्म किया कि फ्लाइट में फ्यूल कभी कम नहीं था.

बात बढ़ा-चढ़ा कर बताती हैं ममता बनर्जी

तिल का ताड़ बनाना ममता बनर्जी की पुरानी आदत है. उनकी इंडिगो फ्लाइट लैंडिंग में देरी को लेकर उनकी पार्टी ने उसी समय हल्ला मचाया. जब राज्य के कुछ टोल नाकों पर आर्मी तैनात करने पर सीएम ने इसे अपनी तख्ता पलट की साजिश का आरोप लगाया. इंडियन एक्सप्रेस ने इस पर खबर छापी

बाद में आर्मी ने इसे एक रुटीन अभ्यास बताया. जिसकी उन्होंने स्थानीय प्रशासन को पहले से जानकारी थी. टीएमसी सांसदों ने फ्लाईट लैंडिंग मामले में भी ममता बनर्जी की जिंदगी को खतरे से जोड़कर कई आरोप लगाये.

राज्यसभा में पार्टी सांसद डेरेक ओ-ब्रायन ने पूछा, ‘क्या इससे बुरा भी और कुछ हो सकता है? ओ-ब्रायन ने कहा, ‘ऐसा लग रहा है ये कोई साजिश है’.

30 नवंबर की शाम, मुख्यमंत्री को ले जा रहा इंडिगो की फ्लाईट संख्या 6E 342 आधे घंटे तक आसमान में मंडराता रहा था. इसके बाद एयरलाइंस ने कहा उनसे पायलटों ने कभी फौरन लैंडिंग या विमान में फ्यूल कम होने की बात कही. एटीसी ने विमान लैंड करने पर पहले से इमरजेंसी तैयारी कर रखी थी.

इंडिगो ने कहा एटीएस ने गलत समझा. पायलटों ने कहा ‘उनके पास फ्लाईट डायवर्ट करने के लिए पर्याप्त फ्यूल है. और हवा में मंडराने के लिए 8 मिनट का फ्यूल है. उन्होंने नहीं कहा कि फ्यूल कम है.

कंजेशन से फ्लाईट ने नहीं की लैंडिंग

घटना के बाद इंडिगो ने बयान जारी कर कहा ‘फ्लाईट को कंजेशन के चलते कोलकाता एयरपोर्ट पर हवा में मंडराने को कहा गया था'. साथ ही कहा, 'फ्लाईट 6ई 342 उड़ाने वाले पायलट ने एटीसी को आसमान में मंडराने के लिए केवल 8 मिनट का फ्यूल होने की जानकारी दी. लेकिन एटीसी ने इसका ये मतलब निकाला कि विमान के पास केवल 8 मिनट का फ्यूल है'.

एटीसी ने इस गलतफहमी के चलते एटीसी ने कोलकाता एयरपोर्ट पर एंबुलेंस और फायर ब्रिगेड को बुला लिया.

हम ये कहना चाहेंगे 'इंडिगो पायलट ने किसी भी समय इमरजेंसी या फ्यूल कम होने की बात नहीं कही. इसके बाद, कंजेशन के चलते विमान ने एक घंटे की देरी से रात 8.40 बजे कोलकाता एयरपोर्ट पर नार्मल लैंडिंग की’.

विभाग के ही एक सूत्र ने बताया फ्लाइट लैंडिग में एयर इंडिया का विमान इंडिगो से आगे था. जबकि, स्पाइस जेट का नंबर तीसरा था.

एटीसी ने सीएम बनर्जी की इंडिगो फ्लाईट को लैंड कराया. इस दौरान, उसने एयर इंडिया की दिल्ली-कोलकाता फ्लाईट एआई 020 को एयरपोर्ट पर ही रहने को कहा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi