S M L

एक्साइज ड्यूटी कम करना ऊंट के मुंह में जीरे जैसा: शिवसेना

एक्साइज ड्यूटी में हाल में की गई कटौती को अपर्याप्त बताने के लिए शिवसेना ने लोकप्रिय मुहावरे 'ऊंट के मुंह में जीरा' का इस्तेमाल किया

Updated On: Oct 05, 2017 04:33 PM IST

Bhasha

0
एक्साइज ड्यूटी कम करना ऊंट के मुंह में जीरे जैसा: शिवसेना

शिवसेना ने गुरुवार को कहा कि पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी को दो रुपए प्रति लीटर कम करने का सरकार का कदम महासागर में एक बूंद की तरह है क्योंकि यह कदम ईंधन की कीमत बढ़ने के महीनों बाद उठाया गया है.

एक्साइज ड्यूटी में हाल में की गई कटौती को अपर्याप्त बताने के लिए शिवसेना ने लोकप्रिय मुहावरे 'ऊंट के मुंह में जीरा' का इस्तेमाल किया.

जनता की ओर से बढ़ रहे दबाव के सामने झुकते हुए सरकार ने तीन अक्टूबर को ईंधन पर एक्साइज ड्यूटी में कटौती की जिससे कि पिछले तीन महीने में डीजल-पेट्रोल के तेजी से बढ़े दामों को कम किया जा सके.

शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र ‘दोपहर का सामना’ में एक संपादकीय में कहा, 'हालांकि यह फैसला वाहन मालिकों और आम आदमी को फायदा देगा, लेकिन यह ‘ऊंट के मुंह में जीरे’ की तरह है. पहले उन्होंने बहुत तेजी से दाम बढ़ाए और फिर नाममात्र के लिए इसे कम कर दिया जब हर जगह शोर हो गया.'

केंद्र में राजग और महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने सरकार पर हमला बोलने के लिए एक और मुहावरे का इस्तेमाल करते हुए कहा कि यह कदम चिलचिलाती धूप में शरीर पर पड़ने वाली ठंडे पानी की एक बूंद की तरह है.

इसने सत्तारूढ़ पार्टी पर ईंधन के दाम कम करने के लिए 'मानसिक रूप से तैयार नहीं होने' का भी आरोप लगाया.

पेट्रोल के दामों में चार जुलाई से अब तक 7.8 रुपए प्रति लीटर और डीजल के दामों में 5.7 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि हुई है जो अपनी सबसे ऊंची कीमत पर पहुंच गया है.

पार्टी ने कहा कि सरकार ईंधन बेचने वाली कंपनियों के लिए अच्छे दिन लेकर आई है और आम आदमी के लिए ये बुरे दिन हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi