S M L

अब शिमला के आसमान पर छाई धूल की धुंध, 2.5 गुणा बढ़ा प्रदूषण

शिमला पहुंचने वाली वेस्ट्रन विंड अपने साथ धूल के कण लेकर आई है, मौसम विभाग के अनुसार हिमाचल प्रदेश में धूल की आंधी तभी खत्म होगी जब यहां बारिश होगी

Updated On: Jun 16, 2018 09:51 AM IST

FP Staff

0
अब शिमला के आसमान पर छाई धूल की धुंध, 2.5 गुणा बढ़ा प्रदूषण

देश की राजधानी दिल्ली के बाद अब 'पहाड़ों की रानी' शिमला के आसमान पर भी धूल का धुंध छा गया है. राजस्थान से शुरू होकर मैदानी इलाकों में छाया धूल के गुबार के शिमला पहुंचने से बीते 2 दिनों में प्रदूषण का स्तर 2.5 गुना बढ़ा है.

धूल का सबसे ज्यादा प्रभाव हवा की गुणवत्ता (एयर क्वालिटी) पर पड़ा है. राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के डायरेक्टर मनमोहन सिंह के अनुसार धूल और ओस की बूंदों की वजह से आसमान पर धूल की धुंध छाई है और विजिबिलिटी में कमी आई है. धूल के कारण तापमान में भी बढ़ोतरी हुई है. मौसम विभाग की ओर से प्रदेश के मध्यपर्वतीय क्षेत्रों और मैदानी क्षेत्रों में भारी बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की गई है.

शिमला में पहुंचने वाली वेस्ट्रन विंड अपने साथ धूल के कण लेकर आई है, जिसका प्रभाव उत्तरी भारत में देखने को मिल रहा है. प्रदेश में धूल की आंधी तभी खत्म होगी जब बारिश होगी.

हिमाचल प्रदेश के पर्यावरण में नमी बहुत है जो कि धूल कणों को सोख लेता है. इससे धूल की आंधी का प्रभाव प्रदेश में ज्यादा देखने को नहीं मिल रहा है. मौसम विभाग के अनुसार धूल के तूफान का असर किन्नौर और लाहौल-स्पीति को छोड़कर दूसरे जिलों में हुआ है.

धूल का सबसे ज्यादा असर स्वास्थ्य पर पड़ रहा है. धूल के कण सांस के साथ शरीर के अंदर जा रहे हैं जिससे संबंधित बीमारियां और आंख संबंधी बीमारियां हो सकती है. अस्थमा के मरीजों और धूल से एलर्जिक लोगों को इससे सबसे ज्यादा परेशानी हो सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi