S M L

बिहार में तीन और शेल्टर होम्स में यौन उत्पीड़न, सवालों के घेरे में प्रशासनिक कार्रवाई

मोतिहारी और गया के बॉयज चिल्ड्रन होम में नाबालिक लड़कों के साथ जबरदस्ती समलैंगिक संबंध बनाने और कैमूर के शॉर्ट स्टे होम में महिलाओं के यौन उत्पीड़न का भी जिक्र आया है

Updated On: Aug 13, 2018 04:17 PM IST

Alok Kumar

0
बिहार में तीन और शेल्टर होम्स में यौन उत्पीड़न, सवालों के घेरे में प्रशासनिक कार्रवाई
Loading...

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) की सोशल ऑडिट रिपोर्ट ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह सेक्स स्कैंडल को सुर्खियों में ला दिया लेकिन इसी रिपोर्ट में मोतिहारी और गया के बॉयज चिल्ड्रन होम में नाबालिक लड़कों के साथ जबरदस्ती समलैंगिक संबंध बनाने और कैमूर के शॉर्ट स्टे होम में महिलाओं के यौन उत्पीड़न का भी जिक्र है.

इस रिपोर्ट के बाद सरकारी कार्रवाई में हुई देरी का चौंकाने वाला मामला भी सामने आया है. जहां मुजफ्फरपुर सेक्स स्कैंडल मामले में 28 मई को एफआईआर दर्ज कर वहां रहने वाली सभी लड़कियों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट कर दिया गया, वहीं गया चिल्ड्रन होम के बच्चों को 11 अगस्त को पटना शिफ्ट किया गया है.

मोतिहारी और कैमूर में हुई घटनाओं पर भी पुलिस की कार्रवाई कई सवाल पैदा करती है. जहां कैमूर में शॉर्ट स्टे होम के गार्ड को गिरफ्तार किया गया, वहीं मोतिहारी में भी एक जूनियर स्टाफ को अरेस्ट किया गया लेकिन एनजीओ संचालकों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है.

TISS ने अपनी रिपोर्ट 15 मार्च को ही सौंप दी थी जिसमें मोतिहारी, गया और कैमूर के शेल्टर होम संचालकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की सिफारिश की गई है. मुजफ्फरपुर मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई लेकिन बाकी शेल्टर होम्स के बारे में मिली गंभीर रिपोर्टों की जांच बिहार पुलिस अभी तक कर रही है.

बिहार सरकार ने समाज कल्याण विभाग के सात जिलों के सहायक निदेशकों और छह चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर को सस्पेंड कर दिया लेकिन मोतिहारी, कैमूर और गया में शेल्टर होम चलाने वाले एनजीओ के मालिकों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

अत्याचार की दर्दनाक दास्तान

मोतिहारी और गया के ब्वॉयज चिल्ड्रन होम में रहने वाले बच्चों ने TISS की ओर से सोशल ऑडिट करने गई 'कोशिश' की टीम को दर्दनाक दास्तान सुनाई. ऑडिट रिपोर्ट में इन दोनों चिल्ड्रन होम चलाने वाले एनजीओ के खिलाफ अविलंब कार्रवाई की सिफारिश की गई है. मोतिहारी चिल्ड्रन होम का संचालन एनजीओ 'निर्देश' कर रहा था. TISS की रिपोर्ट के बाद यहां के एक जूनियर स्टाफ श्याम बाबू को अरेस्ट किया गया जो हाउस फादर के पद पर तैनात थे.

पीटीआई फोटो

पीटीआई फोटो

यहां फ्री ग्रुप डिस्कशन के दौरान बच्चों ने बताया कि कुछ लोग उनके साथ समलैंगिक संबंध बनाते हैं. यहां छोटे और बड़े बच्चों के ग्रुप को एक साथ रखा जाता था. दोनों ही ग्रुप के बच्चों ने बताया कि उनके साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाया गया. इस दौरान बच्चों को गंभीर शारीरिक यातना का भी शिकार होना पड़ा.

कमरे में बंद कर बच्चों की पिटाई

बच्चों ने बताया कि छोटी-छोटी बातों के लिए वहां के स्टाफ सभी बच्चों के एक कमरे में बंद कर मारते थे. जब कोशिश की टीम ने पूछा कि किन बातों के लिए मारते थे, तो जवाब मिला... जब बदमाशी करता, भागने की कोशिश करता या आपस में लड़ाई करता.

टीम ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि चिल्ड्रन होम में निरीक्षण के दौरान सिर्फ एक स्टाफ मौजूद था और वो भी ये नहीं बता सका कि उसकी क्या भूमिका है. रिपोर्ट में एनजीओ के अधिकारियों की गैरमौजूदगी का जिक्र करते हुए कानूनी कार्रवाई की सिफारिश की गई है.

गंदे मैसेज लिखवाती थीं महिला कर्मचारी

यही कहानी के चिल्ड्रन होम के बच्चों ने सुनाई जिसका संचालन दाऊदनगर ऑर्गेनाइजेशन फॉर रूरल डेवलपमेंट (DORD) नाम का एनजीओ करता है. यहां की महिलाकर्मी लड़कों से जबरदस्ती कागज पर गंदे मैसेज लिखवाती थीं और अपनी ही जूनियर सहकर्मियों से शेयर करती थीं. यहां बच्चों को हमेशा बंद कमरे में रखा जाता था.

कैमूर शॉर्ट स्टे होम का संचालन ग्राम स्वराज सेवा संस्थान के जरिए हो रहा था. शॉर्ट स्टे होम्स में भूली भटकी वयस्क महिलाएं रहती हैं. यहां रहने वाली महिलाओं ने वहां के गार्ड पर ही यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए. उस गार्ड को बाद में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. यहां से सारी महिलाओं को शिफ्ट कर दिया गया है और इस संस्था को समाज कल्याण विभाग ने ब्लैकलिस्ट कर दिया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi