विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

प्यार के लिए तिब्बत के बौद्ध संत ने छोड़ा भगवान का साथ

बचपन की दोस्त से शादी करने के लिए वरिष्ठ तिब्बती लामा ने संत की उपाधि त्याग दी

FP Staff Updated On: Mar 30, 2017 06:22 PM IST

0
प्यार के लिए तिब्बत के बौद्ध संत ने छोड़ा भगवान का साथ

उत्तर प्रदेश की नई सरकार भले ही एंटी रोमियो स्कवॉड बनाकर रोमियो को दौड़ा-दौड़ाकर मार रही हो, लेकिन यहां मामला कुछ और ही है.

प्यार का मामला?

एक वरिष्ठ तिब्बती लामा ने अपने प्यार के लिए भगवान को छोड़ दिया. जी हां, तिब्बत के एक संत ने दिल्ली में अपनी बचपन की दोस्त से शादी करने के लिए संत की उपाधी (मॉन्कहुड) त्याग दी.

33 साल की थायो दोरजी ने दावा किया था कि वे करमापा लामा का पुनर्जन्म है. करमापा लामा के तिब्बती बौद्ध धर्म के चार बड़े स्कूलों के लीडर में से एक हैं.

हालांकि करमा काग्यू स्कूल के दूसरे मॉन्क भी ‘उरग्येन ट्रिनले’ उपाधि पर अपनी दावा करते हैं. इस पर मतभेद के कारण तिब्बती बौद्ध धर्म दो हिस्सों में बंट गया.

शादी के ऐलान से चौंकी दुनिया 

17th-karmapa-photo-official-357x500

 

लेकिन गुरुवार को थाये दोरजी ने एक हैरतअंगेज ऐलान करके सबको चौंका दिया. थाये दोरजी के ऑफिस से यह बताया गया कि 25 मार्च 2017 को उन्होंने एक सादे समारोह में शादी कर ली.

थाए दोरजी का कहना है, ‘मुझे भीतर से लगता है कि शादी करने के फैसले का मेरे और मेरे वंश पर सकारात्मक असर होगा.’

एचटी से साभार

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi