S M L

JNU में नारेबाजी: तीन साल बाद कन्हैया कुमार के खिलाफ 1200 पन्नों की चार्जशीट दायर

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 12,000 पन्नों की चार्जशीट दायर की है

Updated On: Jan 14, 2019 09:08 PM IST

FP Staff

0
JNU में नारेबाजी: तीन साल बाद कन्हैया कुमार के खिलाफ 1200 पन्नों की चार्जशीट दायर

JNU के पूर्व प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार पर दिल्ली पुलिस ने तीन साल के बाद चार्जशीट दायर कर दिया है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने चार्जशीट दायर की है. चार्जशीट में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बाण पर देशद्रोह का चार्ज लगा है. पुलिस ने 12,00 पेजों का चार्जशीट दायर किया है.

दिल्ली पुलिस ने 2016 में जेएनयू कैंपस में विवादास्पद नारे लगाने के मामले में 12,000 पेज की चार्जशीट दायर की है. पुलिस ने IPC की धारा 124A 323, 465, 471, 143, 149, 147, 120B के तहत चार्जशीट दायर की है.

पटियाला कोर्ट 15 जनवरी से इस मामले की सुनवाई शुरू करेगी. कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्बाण भट्टाचार्य, अकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रायेयारसूल, बशीर भट्ट सहित जेएनयू के कई छात्रों पर देशद्रोह का चार्ज लगा है.

शहला रशीद और डीएमके लीडर डी राजा की बेटी अपराजिता राजा पर भी देशद्रोह का चार्ज लगाया गया है.

क्या कहना है कन्हैया कुमार का?

चार्जशीट दायर करने के मामले में कन्हैया कुमार ने कहा, अगर चार्जशीट दायर करने की बात सच्ची है तो मैं पुलिस और नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहूंगा. उन्होंने कहा, तीन साल बाद चुनाव से ठीक पहले चार्जशीट दायर करना साबित करता है कि यह राजनीतिक तौर पर प्रेरित है. मुझे देश की न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है.

क्या कहना है डी राजा का?

इस मामले में डी राजा ने कहा, तीन साल के बाद दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट फाइल की और कुछ छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का चार्ज लगा दिया है. इनमें ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (AISF) कन्हैया कुमार और छात्र संघ चुनाव से जुड़े दूसरे छात्र हैं.

डीराजा ने कहा, हमने उसी वक्त यह कहा था कि या राजनीति से प्रेरित है. AISF पर कोई भी देशविरोधी गतिविधियों का आरोप नहीं लगा सकता. यह साबित नहीं हो सकता कि छात्र ऐसी किसी गतिविधियों में शामिल थे. सरकार उनपर देशद्रोह का चार्ज नहीं लगा सकती. हम कोर्ट में यह केस लड़ेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi