S M L

Statue of Unity: जानिए सरदार पटेल की मूर्ति के बारे में 10 रोचक बातें

गुजरात में नर्मदा बांध के किनारे बनी ये मूर्ति न सिर्फ विश्व में सबसे ऊंची है बल्कि सबसे कम टाइम में तैयार भी हुई है. 182 मीटर की इस मूर्ति को बनने में सिर्फ 33 महीने का वक्त लगा

Updated On: Oct 31, 2018 08:18 AM IST

FP Staff

0
Statue of Unity: जानिए सरदार पटेल की मूर्ति के बारे में 10 रोचक बातें
Loading...

रिकॉर्ड 33 महीने में बनकर तैयार हुआ सरदार वल्लभ पटेल की मूर्ति का कल अनावरण होगा. इसे सरदार पटेल मूर्ति या फिर एकता की मूर्ति भी कहा जाता है. कल यानी 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पूरे धूमधाम से पीएम मोदी की मौजूदगी में ये अनावरण होगा. न्यूयॉर्क स्थित स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी ऊंचाई है इस पटेल मूर्ति की.

गुजरात में नर्मदा बांध के किनारे बनी ये मूर्ति न सिर्फ विश्व में सबसे ऊंची है बल्कि सबसे कम टाइम में तैयार भी हुई है. 182 मीटर की इस मूर्ति को बनने में सिर्फ 33 महीने का वक्त लगा.

comparision

चलिए अब आपको सरदार पटेल स्टैचू की 10 रोचक बातें बताते हैं-

1- मूर्ति को लॉर्सन एंड टूब्रो कंपनी द्वारा बनाया गया है. इसे बनाने में 2,989 करोड़ रुपए का खर्च आया. स्टैचू ऑफ यूनिटी के बाहरी परत को बनाने में 1,700 टन पीतल का इस्तेमाल हुआ है. मूर्ति की आंतरिक बनावट में कंक्रीट सीमेंट और स्टील का इस्तेमाल हुआ है.

2- मूर्ति के अंदर एक हाई स्पीड एलिवेटर लगाई गई है. इसके जरिए मूर्ति की छाती तक पहुंचा जा सकता है और नर्मदा डैम को ऊंचाई से देखने का लुत्फ उठाया जा सकता है. इस लिफ्ट में एक बार 200 लोग आ सकते हैं.

3- इस जगह को टूरिस्ट के लिए आकर्षक बनाने के मकसद से यहां एक थ्री स्टार होटल, एक म्यूजियम और एक ऑडियो विजुअल गैलरी बनाई गया है.

4- सरदार पटेल की इस मूर्ति को बनाने में कई पेंच थे. न सिर्फ इसकी लंबाई बल्कि नर्मदा नदी के बीच में बनाना था. दूसरे सरदार पटेल की चलते हुए छवि दी गई है.

patel

5- मूर्ति को 180 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार वाली तेज हवाओं के साथ साथ रिक्टर स्केल पर 6.5 की तीव्रता वाले भूकंप को सहने की क्षमता वाला बनाया गया है.

6- इस मूर्ति को नोएडा के मूर्तिकार राम वी सूतर ने डिजाइन किया है.

7- गुजरात सरकार केवदिया शहर से आने वाले लोगों के लिए 3.5 किलोमीटर लंबा हाईवे बना रही है.

8- साधु द्वीप को 320 मीटर लंबा पुल मुख्य जमीन से जोड़ता है.

9- मूर्ति को बनाने के लिए पूरे देश के गांवों से 135 मीट्रिक टन लोहा मांगा गया है.

10- यहां पर सेल्फी क्लिक करना बहुत ही आसान होगा. इस जगह पर एक सेल्फी प्वाइंट बनाया गया है जिससे लोग आराम से सेल्फी क्लिक कर पाएं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi