S M L

योगी के 'राम' के समक्ष उतरेंगे अखिलेश के 'कृष्ण'

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव इटावा में भगवान कृष्ण की 50 फुट की प्रतिमा लगवाने की तैयारी में हैं

Updated On: Nov 11, 2017 04:07 PM IST

FP Staff

0
योगी के 'राम' के समक्ष उतरेंगे अखिलेश के 'कृष्ण'

उत्तर प्रदेश की राजनीति में अब धार्मिक प्रतीकों की लड़ाई जोर पकड़ चुकी है. लंबे समय से अयोध्या में राम मंदिर का एजेंडा लेकर चलने वाली भारतीय जनता पार्टी ने कुछ ही दिनों पहले सरयू तट पर भगवान राम की विशाल प्रतिमा लगवाने की घोषणा की थी तो अब बीजेपी के जवाब में समाजवादी पार्टी भी इटावा में कृष्ण की 50 फुट की प्रतिमा लगवाने की तैयारी में है.

राजस्थान पत्रिका अखबार में छपी एक खबर के मुताबिक सपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी के गढ़ इटावा में भगवान कृष्ण की 50 फुट की प्रतिमा लगाने की तैयारी कर ली है.

माना जा रहा है कि कृष्ण की प्रतिमा लगवाने का धार्मिक मतलब बहुत प्रगाढ़ है. यादव जाति के लोग खुद को कृष्ण का वंशज मानते हैं और समाजवादी पार्टी के परंपरागत वोटर हैं. भगवान राम की तरह ही कृष्ण को लेकर भी उत्तर भारतीय हिंदुओं में बेहद आस्था है.

खबर के मुताबिक इस मूर्ति को गोपनीय तरीके से बनाया जा रहा है. माना जा रहा है कि इसके जरिए बीजेपी के धार्मिक एजेंडे को कुंद करने की कोशिश की जाएगी.

छवि तोड़ने की कोशिश

बीते यूपी चुनाव में बीजेपी को मिली प्रचंड सफलता ने राज्य की राजनीति में धार्मिक मायनों को बदला है. मौलाना के नाम से पुकारे जाने वाले मुलायम सिंह यादव के पुत्र अखिलेश यादव ने खबरिया चैनल आज तक में एक साक्षात्कार के दौरान कहा भी था कि मैं विकास के नाम पर वोट मांगता रहा और जीत धार्मिक एजेंडे की हुई है.

संभव है यूपी में समाजवादी पार्टी को यह एहसास होने लगा है कि बीजेपी के एजेंडे की वजह से लोगों के बीच समर्थन लगातार बढ़ रहा है. इसकी काट के लिए अखिलेश यादव ने हिंदू धर्म के सबसे बड़े प्रतीक भगवानों में से एक कृष्ण की प्रतीमा बनवाने का निर्णय लिया गया है. जिससे उन वोटों को अपनी तरफ किया जा सके जो बीजेपी के कोर वोटर ममाने जाते हैं

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi