S M L

तीन तलाक पर सलमान खुर्शीद: पाप को कानूनी वैधता नहीं दे सकते

खुर्शीद को मामले में एमिकस क्यूरी यानी न्यायमित्र हैं

Updated On: May 12, 2017 03:42 PM IST

FP Staff

0
तीन तलाक पर सलमान खुर्शीद: पाप को कानूनी वैधता नहीं दे सकते

सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक मुद्दे पर सुनवाई के दौरान एमिकस क्यूरी बनाए गए सलमान खुर्शीद से सवाल किए.

सलमान खुर्शीद ने अदालत में फौरी तीन तलाक के खिलाफ तर्क दिए. उन्होंने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के इस दावे पर सवाल उठाए कि यह भले पाप हो लेकिन कानूनी तौर पर वैध हो. उन्होंने कहा कि जो नैतिक रूप से गलत हो तो वह वैध कैसे हो सकता है. इस पर कोर्ट ने उनके पूछा कि कई लोग तो मौत की सजा को भी पाप मानते हैं लेकिन यह तो कानूनी तौर पर वैध ही है.

तीन तलाक: 5 अलग-अलग धर्मों के जज कर रहे हैं याचिका पर सुनवाई

जजों ने खुर्शीद से पूछा कि जो ईश्वर की नजरों में गलत हो, वह मानवीय कानूनों में सही कैसे हो सकता है. खुर्शीद ने कहा कि पाप को कानून के जरिए सही नहीं ठहराया जा सकता. खुर्शीद ने कहा कि भारत के अलावा किसी और देश में फौरी तीन तलाक की परंपरा नहीं है.

खुर्शीद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को इस्लाम को सुधारने की जरूरत नहीं है लेकिन इस्लाम का सही मतलब बताने की जरूरत है. सुप्रीम कोर्ट खुर्शीद से यह भी पूछा कि क्या तीन तलाक इस्लाम का अभिन्ना हिस्सा है या फिर केवल एक रिवाज.

सुप्रीम कोर्ट ने खुर्शीद को इस मामले में एमिकस क्यूरी यानी न्यायमित्र नियुक्त किया था. कोर्ट में फिलहाल तीन तलाक से जुड़ी याचिकाओं पर लगातार सुनवाई चल रही है. पांच जजों की खंडपीठ मामले की सुनवाई कर रही है.

ट्रिपल तलाक से जुड़े ये खोखले मिथक तर्क बनाकर पेश करना बंद कीजिए!

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi