S M L

ओवैसी का हमला, मुसलमानों को जेल में डालने की साजिश है तीन तलाक बिल

ओवैसी ने आरोप लगाया, तीन तलाक कानून के तहत मुस्लिम महिलाओं को सड़कों पर लाना है और मुस्लिम पुरुषों को जेल में डालना है

Updated On: Jan 27, 2018 06:16 PM IST

FP Staff

0
ओवैसी का हमला, मुसलमानों को जेल में डालने की साजिश है तीन तलाक बिल

तीन तलाक के मामले में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने फिर निशाना साधा है. ओवैसी ने कहा, ट्रिपल तलाक बिल एकतरह से मुसलमानों को जेल में डालने की साजिश है. उन्होंने यह भी दावा किया कि कानून सामाजिक बुराइयों का हल कतई नहीं हो सकता.

एआईएमआईएम की एक प्रेस रिलीज में ओवैसी के हवाले से पूछा गया है कि क्या कानून आने के बाद तीन तलाक रुक जाएगा? उन्होंने कहा, कानून बनने के बाद भी दहेज के लिए महिलाओं की हत्या रुकी नहीं है. महिलाओं के खिलाफ अपराध निरंतर जारी हैं.

ओवैसी ने आंकड़े देते हुए बताया, साल 2005 से लेकर 2015 तक भारत में 80 हजार से ज्यादा दहेज के लिए हत्याएं हुई हैं. दहेज के नाम पर हर दिन 22 महिलाएं जान देती हैं. निर्भया हत्याकांड के बाद भी बहुत कुछ सुधरा नहीं है. रेप की घटनाएं दिनोंदिन बढ़ती जा रही हैं. कानून किसी भी रूप में इसका जवाब नहीं है.

ओवैसी ने आरोप लगाया, तीन तलाक बिल अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ एक साजिश है. एक षडयंत्र के तहत मुस्लिम महिलाओं को सड़कों पर लाना है और मुस्लिम पुरुषों को जेल में डालना है. उन्होंने कहा, मुस्लिम विद्वानों से राय-मशविरा किए बिना बीजेपी वाली एनडीए सरकार ने इस बिल को संसद में पास कराना चाहा.

मुस्लिम वुमेन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज) बिल, 2017 लोकसभा से पास हो चुका है, लेकिन राज्यसभा में पारित नहीं हो सका. विपक्ष के नेताओं ने इसके खिलाफ कड़ा विरोध जताया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi