S M L

सबरीमाला हिंसा की आग में फिर जल रहा है सालों से CPM-BJP की झड़पें देख रहा कन्नूर

कन्नूर कई सालों से राजनीतिक हिंसा खासकर सीपीएम और बीजेपी के बीच खूनी झड़पों और हत्याओं का अड्डा रहा है

Updated On: Jan 05, 2019 05:34 PM IST

Bhasha

0
सबरीमाला हिंसा की आग में फिर जल रहा है सालों से CPM-BJP की झड़पें देख रहा कन्नूर

सबरीमाला मुद्दे को लेकर शनिवार को भी बीजेपी-आरएसएस और सत्तारूढ़ सीपीएम कार्यकर्ताओं की हिंसा में राजनीतिक रूप से संवेदनशील उत्तरी केरल का कन्नूर जिला झुलसता रहा. प्रतिद्वंद्वी नेताओं और कार्यकर्ताओं की कई दुकानों और घरों पर हमला किया गया.

पुलिस ने बताया कि सीपीएम विधायक ए एन शमसीर के मदापीडिकाइल, बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद वी मुरलीधरन के वदियिल पीड़िकिया और सीपीएम के कन्नूर जिला के पूर्व सचिव पी शशि के तलासेरी स्थित घरों समेत कई जगह पर शनिवार की सुबह-सुबह बम फेंके गए. घटना में कोई भी घायल नहीं हुआ है.

बीजेपी सांसद के पैतृक घर पर हमले से कुछ ही घंटे पहले शमशीर और शशि के घरों पर देशी बम फेंके गए थे जब मार्क्सवादी पार्टी और बीजेपी-आरएसएस के नेता यहां एक शांति बैठक में शामिल होने आए थे.

सामान्य जनजीवन को प्रभावित करने वाले ये हमले इस संवेदनशील जिले में करीब एक साल के अंतर पर फिर से बड़े पैमाने पर हो रही राजनीतिक हिंसा को दिखाते हैं.

दो जनवरी को भगवान अयप्पा के मंदिर में रजस्वला आयु वर्ग की दो महिलाओं के पूजा करने के बाद से बीजेपी-आरएसएस और दक्षिणपंथी संगठनों के केरल में हिंसक प्रदर्शन जारी हैं.

कन्नूर के अलावा कोझिकोड के पेराम्बरा, मल्लपुरम और पथनमथिट्टा के अडूर में भी शुक्रवार की रात और शनिवार तड़के इस तरह के कई हमले और तोड़फोड़ की घटना हुई.

कन्नूर और दूसरी जगहों पर जारी हिंसा को देखते हए राज्य पुलिस प्रमुख लोकनाथ बहेरा ने राज्य भर में अलर्ट जारी किया है और पार्टी नेताओं के घरों पर हमले के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

एक आधिकारिक बयान के मुताबिक कन्नूर हिंसा के संबंध में पिछले दो दिनों में कुल 260 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही इसमें बताया गया कि जिले भर में गश्त और छापेमारी तेज कर दी गई है.

पुलिस ने शनिवार सुबह थलासेरी में रूट मार्च किया जहां, 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 13 को हिरासत में लिया गया. पुलिस सूत्रों ने बताया कि एक अन्य घटना में अज्ञात लोगों ने शनिवार सुबह परियारम इलाके में स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यालय को आग लगा दी.

कल रात जिले के इरिती में पेरंबुरा में सीपीएम के एक कार्यकर्ता पर हमला हुआ जबकि थलासेरी में आरएसएस नेता के चंद्रशेखरन पर हमला हुआ और उनके घर पर कथित तौर पर 25 मार्क्सवादी कार्यकर्ताओं के एक समूह ने तोड़-फोड़ की.

सीपीएम प्रदेश सचिव कोदियेरी बालाकृष्णन ने तिरुवनंतपुरम में पत्रकारों से कहा कि आरएसएस राज्य में दंगे करवाना चाहता है और शांति वार्ता में खलल डाल रहा है.

उन्होंने आरएसएस-बीजेपी पर अपने प्रबंधन वाले मंदिरों और शैक्षणिक संस्थानों को 'आर्मरी' में बदलने का आरोप लगाया. साथ ही कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी हिंसा प्रभावित इलाकों में शांति बहाल करने के लिए कदम उठाएगी.

पिछले साल सभी आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने वाले सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से पहली बार बुधवार को मंदिर में दो महिलाओं के प्रवेश को लेकर केरल में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन जारी हैं.

मुरलीधरन ने माओवादियों से संपर्क रखने वाली दो महिलाओं को पुलिस सुरक्षा में सबरीमाला मंदिर पहुंचाए जाने के ‘षड्यंत्र’ की एनआईए से जांच कराने की मांग की है.

राज्य के विभिन्न हिस्सों में हुई हिंसा के सिलसिले में अब तक 1,700 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. उत्तर केरल में स्थित, कन्नूर कई सालों से राजनीतिक हिंसा खासकर सीपीएम और बीजेपी के बीच खूनी झड़पों और हत्याओं का अड्डा रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi