S M L

सबरीमाला मंदिर श्रद्धालुओं का है देवस्वोम बोर्ड का नहीं: राज परिवार

उन्होंने दावा किया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक 10-50 आयु समूह की किसी भी असली महिला श्रद्धालु ने मंदिर में पूजा अर्चना की कोशिश नहीं की

Updated On: Nov 08, 2018 08:22 PM IST

Bhasha

0
सबरीमाला मंदिर श्रद्धालुओं का है देवस्वोम बोर्ड का नहीं: राज परिवार
Loading...

सबरीमाला मंदिर में रजस्वला उम्र वाली वाली महिलाओं के प्रवेश पर अपने रुख को कड़ा करते हुए तत्कालीन पंडलाम राज परिवार ने बुधवार को कहा कि वह अयप्पा मंदिर के प्राचीन अनुष्ठानों और परंपराओं पर किसी प्रकार के समझौते के लिए तैयार नहीं है. पंडलाम राज परिवार के प्रतिनिधि शशिकुमार वर्मा ने केरल सरकार के इस दावे को खारिज कर दिया कि त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड (टीडीबी) मंदिर का संरक्षक है. उन्होंने कहा, यह ‘गलत’ है.

धार्मिक हिंदुओं को ‘विभाजित’ करने का प्रयास

उन्होंने कहा, ‘यह मंदिर श्रद्धालुओं का है.’ उन्होंने यह भी कहा, ‘यदि रीति रिवाजों और परंपराओं का उल्लंघन होता है तो उन्हें सवाल उठाने का अधिकार है.’ उनका कहना है, ‘हमने मंदिर को बंद करने के लिए कभी नहीं कहा. हम रीति रिवाजों और परंपराओं पर किसी भी समझौते के लिए तैयार नहीं हैं. मेरे परिवार की अयप्पा मंदिर के धन पर पर नजर नहीं है.’

मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि इसके जरिए ‘अवर्ण’ और ‘सवर्ण’ जाति में धार्मिक हिंदुओं को ‘विभाजित’ करने का प्रयास था. लेकिन अयप्पा के भक्तों ने यह सब देखा और इसके जाल में नहीं फंसे. उन्होंने कहा कि पिछले छह दिनों में जब 17 से 22 अक्टूबर के बीच मासिक पूजा के लिए मंदिर खोला गया तो सबरीमाला को लेकर जो कुछ हुआ वह बहुत ‘पीड़ादायक’ था.

असली महिला श्रद्धालु ने मंदिर में पूजा अर्चना की कोशिश नहीं की

वर्मा ने आरोप लगाया कि श्रद्धालुओं के लिए ठहरने की व्यवस्था, शौचालय और पेयजल जैसी आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराने में सरकार नाकाम रही है. ऐसे में पुलिस सुरक्षा के बीच छह महिलाओं को पर्वत पर पैदल ले गई. उन्होंने दावा किया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक 10-50 आयु समूह की किसी भी असली महिला श्रद्धालु ने मंदिर में पूजा अर्चना की कोशिश नहीं की.

उन्होंने आरोप लगाया कि छह महिला जिन्होंने मंदिर में पूजा अर्चना का प्रयास किया था उन्हें पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई थी, यह एक गुप्त एजेंडे का हिस्सा था. उन्होंने केरल की सीपीआई की अगुवाई वाली लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) पर कटाक्ष करते हुए कहा कि राज परिवार का मंदिर के साथ जुड़ाव हर पांच साल में नहीं बदलता है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi