S M L

सबरीमाला मामला: वकील आर्यमा सुंदरम ने छोड़ा देवस्वाम बोर्ड का साथ

शेखर नाफाडे अब सुंदरम की जगह टीडीबी की ओर अदालत में पक्ष रखेंगे

Updated On: Nov 12, 2018 06:50 PM IST

FP Staff

0
सबरीमाला मामला: वकील आर्यमा सुंदरम ने छोड़ा देवस्वाम बोर्ड का साथ

सबरीमाला मामले में त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड (टीडीबी) की ओर से समीक्षा याचिका दाखिल करने वाले वरिष्ठ वकील सी आर्यमा सुंदरम, अब याचिकाकर्ताओं में से एक के रूप में दिखाई देंगे. शेखर नाफाडे अब सुंदरम की जगह टीडीबी की ओर अदालत में पक्ष रखेंगे.

सुंदरम ने इस मामले से खुद को दूर कर लिया है क्योंकि वह नायर सर्विस सोसाइटी (एनएसएस) से जुड़े हुए थे जो कि इस मामले में एक याचिकाकर्ता हैं. देवस्वाम बोर्ड ने अपने वकील बीना माधवन के स्थान पर सुंदरम को अपनी ओर से वकील बनाया था.

आर्यमा सुंदरम एक कॉर्पोरेट वकील हैं जिन्होंने कई मामलों में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का प्रतिनिधित्व भी किया है. साल 1989 में, उन्हें केंद्र सरकार का स्थायी वकील बनाया गया था. उन्होंने इस पद पर अपना कार्यकाल जारी रखा. इसके बाद 1995 में मद्रास हाईकोर्ट द्वारा उन्हें एक वरिष्ठ वकील बनाया गया.

सुंदरम 'एस रंगराजन' मामले में भी वकील थे, जिसके परिणामस्वरूप अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर ऐतिहासिक निर्णय हुआ. सुंदरम बीसीसीआई सचिव के श्रीनिवासन मामले में भी वकील थे. सुंदरम चेन्नई के नामी वकील चेतपत पट्टाभीरामन रामस्वामी अय्यर और सीपी रामास्वामी अय्यर के पोते हैं, जिन्होंने पूर्ववर्ती त्रावणकोर में सभी जातियों के पुरुषों और महिलाओं के लिए मंदिरों के द्वार खोलने में अहम भूमिका निभाई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi