live
S M L

रोटोमैक के मालिक ने कहा- 'मैं देश छोड़कर नहीं भागूंगा'

विक्रम कोठारी ने एक साल हो जाने के बावजूद उन्होंने बैंकों को न तो लिए गए लोन पर ब्याज चुकाया है और न लोन वापस लौटाया है.

Updated On: Feb 18, 2018 07:43 PM IST

FP Staff

0
रोटोमैक के मालिक ने कहा- 'मैं देश छोड़कर नहीं भागूंगा'

पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए के स्कैम के बाद अब सरकारी बैंकों से करोड़ों रुपए के घोटाले का एक और मामला सामने आया है. रोटोमैक पेन बनाने वाली कंपनी पर अलग-अलग सरकारी बैंकों से 800 करोड़ रुपए से अधिक का लोन लेकर भागने का आरोप है.

हालांकि इस मामले के सुर्खियों में आने के बाद विक्रम कोठारी मीडिया के सामने आए और कहा कि उन्होंने बैंक से लोन जरूर लिया है, लेकिन लोन चुकता नहीं करने की बात गलत है. उन्होंने कहा कि उनका बैंक का एनसीएलटी के अंदर केस चल रहा है. विवाद का निष्कर्ष निकल आएगा. वहीं देश छोड़कर भागने के सवाल पर उन्होंने कहा, 'मैं कानपुर का रहने वाला हूं. कानपुर में ही रहूंगा. भारत से बेहतर देश कोई नहीं है.'

5 सरकारी बैंको से लिया 800 करोड़ से ज्यादा का लोन

सूत्रों के मुताबिक, कानपुर स्थित रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी ने 5 सरकारी बैंकों से 800 करोड़ रुपए से ज्यादा का लोन लिया था. बताया जा रहा है कि इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने नियम-कानून को ताक पर रखकर विक्रम कोठारी को इतना बड़ा लोन दिया गया था.

विक्रम कोठारी ने सबसे ज्यादा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से 485 करोड़ का लोन लिया है. उसने इलाहाबाद बैंक से भी 352 करोड़ की रकम का कर्ज लिया था, लेकिन एक साल हो जाने के बावजूद उन्होंने बैंकों को न तो लिए गए लोन पर ब्याज चुकाया है और न लोन वापस लौटाया है. कानपुर के माल रोड के सिटी सेंटर में रोटोमैक कंपनी के ऑफिस पर पिछले कई दिनों ने ताला बंद है. विक्रम कोठारी का भी कोई अता-पता नहीं है. वो लापता बताए जा रहे हैं. इलाहाबाद बैंक के मैनेजर राजेश गुप्ता ने फरार विक्रम कोठारी की संपत्तियों को बेचकर पैसे वापस रिकवर करने की उम्मीद जताई है.

(न्यूज 18 से साभार)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi