S M L

रुड़की: पुल के नाम पर विवाद, मेयर बोले दीनदयाल तो एमएलए बोले भगत सिंह

साढ़े 6 करोड़ की लागत से बने पुल का अभी उद्घाटन भी नहीं हुआ है

Updated On: Sep 21, 2017 09:22 PM IST

FP Staff

0
रुड़की: पुल के नाम पर विवाद, मेयर बोले दीनदयाल तो एमएलए बोले भगत सिंह

रुड़की में विधायक और मेयर की खींचतान को अब नया मंच मिल गया है और यह है लगभग छह करोड़ रुपए की लागत से बना पुल. पुल का उद्घाटन अभी नहीं हुआ है लेकिन इसके नामकरण को लेकर खींचतान शुरू हो गई है.

साढ़े 6 करोड़ की लागत से बने पुल का अभी उद्घाटन भी नहीं हुआ है. विधायक प्रदीप बत्रा ने बुधवार देर शाम पुल पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय प्रकाश गंगा ब्रिज के नाम से बोर्ड लगाया था लेकिन गुरुवार को मेयर समर्थकों और कुछ संगठनों ने इसपर विरोध जताया.

मेयर समर्थकों ने पुल के ऊपर चढ़कर दीनदयाल उपाध्याय प्रकाश गंगा ब्रिज के बोर्ड के ऊपर शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह क्रांति सेतु का बैनर लगा दिया.

कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि पुल का नामकरण विधायक ने प्रकाश गंगा के नाम से करवाया है जो कि उनसे संबंधित है इसलिए लोगों को प्रकाश के नाम से आपत्ति है.

इस पुल का निर्माण 2012 में शुरू किया गया था लेकिन निर्माणाधीन पुल के टूटने से 3 मजदूरों को मौत हो गई थी. कांग्रेस शासन में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पुल का दोबारा शिलान्यास किया था और पुल बनने के लिए 9 महीने का समय दिया था लेकिन दो साल बाद भी पुल का निर्माण पूरा नहीं हो पाया.

पुल में सुंदर लाइटिंग

उधर इस मामले में विधायक प्रदीप बत्रा ने मेयर यशपाल राणा को नसीहत देते हुए कहा कि मेयर शहर में कुछ विकास कार्य तो करवाएं ताकि जनता उन्हें स्वीकार कर सके.

बत्रा ने कहा कि कुछ लोगों को विकास कार्य पसंद नहीं इसलिए प्रकाश का विरोध कर रहे हैं. विधायक ने कहा कि प्रकाश किसी व्यक्ति का नाम नहीं है. क्योंकि पुल पर पूरी लाइटिंग की गई इसलिए पुल का नाम प्रकाश गंगा रखा गया है. उन्होंने यह भी दावा किया कि यह भारत का ऐसा पहला पुल होगा जिसमें इतनी सुंदर लाइटिंग गई है.

(साभार: न्यूज़18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi