S M L

रेवाड़ी गैंगरेप मामलाः पुलिस ने जारी की तीनों आरोपियों की तस्वीर, एक आरोपी आर्मी में करता है काम

रेवाड़ी गैंगरेप मामले में तीनों आरोपियों की पहचान हो चुकी है और उनमें से एक आर्मी में काम करता है

Updated On: Sep 15, 2018 05:20 PM IST

FP Staff

0
रेवाड़ी गैंगरेप मामलाः पुलिस ने जारी की तीनों आरोपियों की तस्वीर, एक आरोपी आर्मी में करता है काम
Loading...

हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले में अगवा कर 19 साल की टॉपर छात्रा के साथ गैंगरेप के 3 आरोपियों की बारीकी से तलाश जारी है. फिलहाल हरियाणा पुलिस ने तीनों आरोपियों की तस्एवीर जारी कर दी है. इनके नाम मनीष, नीशू और पंकज है. बता दें कि पंकज आर्मी में काम करता है.

हरियाणा पुलिस ने एसआईटी यानी विशेष जांच दल का गठन कर दिया है. इसका नेतृत्व नूह की पुलिस अधीक्षक (एसपी) नाजनीन बसीन कर रही हैं. इसी बीच इस मामले को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. हरियाणा के डीजीपी ने बताया कि तीनों आरोपियों में से एक आर्मी में काम करता है. डीजीपी ने कहा कि केस दर्ज कर लिया गया है. तीनों आरोपियों की पहचान हो चुकी है और उनमें से एक आर्मी में काम करता है. हम उसके खिलाफ वॉरेंट जारी कर चुके हैं. उम्मीद है कि आज शाम तक उसकी गिरफ्तारी हो जाएगी.

वहीं इस मामले में साउथ वेस्टर्न कमांड के जेनेरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन ने कहा कि आर्मी क्रिमिनलों को शरण नहीं देता. दोषी को कड़ी सजा मिलेगी.

इससे पहले हरियाणा के उचाना कालां इलाके की बीजेपी विधायक प्रेमलता ने एक विवादित बयान दे दिया था. रेवाड़ी गैंगरेप मामले में उन्होंने कहा कि बेरोजगारी की वजह से युवकों को तनाव हो रहा है और वह रेप जैसे क्राइम कर रहे हैं. आपको बता दें कि एसपी नाजनीन बसीन ने आज ही रेवाड़ी के जिला अस्पताल में पीड़िता से मुलाकात की. उनके अनुसार पीड़िता की स्थिति अब ठीक है. उन्होंने कहा कि हम मामले के हर पहलू की जांच करेंगे.

एसपी बसीन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि मेडिकल रिपोर्ट में रेप कंफर्म हो चुका है. हम कई टीमें बनाकर आरोपी की तलाश कर रहे हैं. हम लोगों से अपील कर रहे हैं कि जो भी इस मामले में कुछ भी जानता हो हमारी मदद जरूर करे. इस मामले में सुलझाने में जो हमारी सही तरीके से दद कर सकेगा उसे 1 लाख रुपए पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे. वहीं पीड़िता की मां ने शुक्रवार को पुलिस की नजरअंदाजी से हताश होकर वीडियो के जरिए अपना दर्द बयां किया था. उन्होंने कहा- मोदी जी कहते हैं बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ, लेकिन कैसे? मेरी बेटी तो पढ़ने ही गई थी. कोचिंग के रास्ते से उसे किडनैप कर लिया गया. किडनैप कर के मेरी बेटी को शाम 4 बजे बस स्टैंड पर नशे की हालत में छोड़कर पंकज और मनीष भाग गए थे. दोनों ही लड़के मेरी बेटी को उठाकर ले गए थे. वो उसको दूर के गांव में ले गए जहां और भी बच्चे थे. उन सभी ने मेरी बच्ची के साथ बहुत बुरा हाल किया. मोदी जी कहते हैं बेटी को पढ़ाएं, कहां से पढ़ाएं, कैसे पढ़ाएं, मेरी बेटी को न्याय दिलाओ.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi