S M L

उत्तर भारत में बारिश का कहर Live Updates: ट्रैकिंग पर गए IIT रुड़की के 35 स्टूडेंट सहित सभी 45 लोग सुरक्षित

लापता हुए सभी लोग हम्पता पास के लिए ट्रैकिंग पर गए थे और उन्हें मनाली लौटना था. लेकिन उनसे संपर्क टूट चुका है

Updated On: Sep 25, 2018 12:53 PM IST

FP Staff

0
उत्तर भारत में बारिश का कहर Live Updates: ट्रैकिंग पर गए IIT रुड़की के 35 स्टूडेंट सहित सभी 45 लोग सुरक्षित

उत्तर भारत में बारिश का कहर लगातार जारी है. हिमाचल प्रदेश में रेड अलर्ट जारी कर दिया है. बारिश और बाढ़ की वजह से इन इलाकों में हालात बहुत खराब हैं. उत्तर भारत में बारिश की खबरों पर हमारे साथ पल-पल नजर बनाए रखिए.

-हिमाचल प्रदेश में अभी भी 700 से ज्यादा सैलानी फंसे हुए हैं.

-आईआईटी रुड़की के 35 स्टूडेंट्स सहित 50 ट्रेकर्स का ग्रुप सुरक्षित है. हिमाचल प्रदेश के सीएम जय राम ठाकुर ने बताया कि सभी ट्रैकर लाहौल-स्पिति के सिसु इलाके में सुरक्षित हैं.

-इंडियन एयरफोर्स ने लाहौल-स्पिति जिल के पिंग डॉम ला से दो जर्मन नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया है. ये लोग पिछले दो दिन से इस इलाके में फंसे हुए थे. एयरफोर्स ने मंगलवार सुबह 6 बजे उन्हें निकालने के लिए ऑपरेशन शुरू किया और 7 बजे तक उन्हें सुरक्षित निकाल लिय गया.

हिमाचल प्रदेश में सेब के बागानों को काफी नुकसान हुआ है. बर्फ पड़ने की वजह काफी नुकसान हुआ है.

-पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर में बारिश और बाढ़ की वजह से करीब 22 लोगों की मौत हो गई है. पंजाब और हिमाचल प्रदेश में रेड अलर्ट जारी होने के बाद सेना को स्टैंडबाय पर रखा जाएगा.

-पंजाब और हरियाणा में तेज बारिश की वजह से फसलों का भारी नुकसान हुआ है. कपास, बाजरा, धान और मूंग की फसल का 15-20 फीसदी हिस्सा बर्बाद हो चुका है. इस इलाके में रोड, रेल और एयर ट्रैफिक बाधित हो गया है.

-मौसम विभाग के मुताबिक, हरियाणा और आसपास के इलाकों में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इन इलाकों में अगले 24 घंटों में बारिश में कमी आएगी. पिछले तीन दिनों से इन इलाकों में लगातार बारिश हो रही है. हालांकि हरियाणा में अभी भी औसत बारिश से 10 फीसदी कम बारिश हुई है.

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश और बर्फबारी से हालात बदतर हो रहे हैं. अब खबर आ रही है कि लाहौल स्पिति जिले में ट्रैकिंग के लिए गए 45 लोग लापता हैं और इनमें 35 आईआईटी रुड़की के स्टूडेंट भी हैं.

हिमाचल में पिछले दो-तीन दिनों से भारी बारिश हो रही है और बर्फबारी भी हुई है. यहां अब तक जान-माल का काफी नुकसान हुआ है. परिवार जनों ने बताया है कि इन लापता कहे जा रहे लोगों से उनका संपर्क टूट चुका है. न्यूज एजेंसी एएनआई ने सोमवार देर रात इसकी जानकारी दी.

लापता दल में शामिल एक आईआईटी स्टूडेंट अंकित भाटी के पिता राजवीर सिंह ने एएनआई को बताया कि वे सभी हम्पता पास के लिए ट्रैकिंग पर गए थे और उन्हें मनाली लौटना था. लेकिन उनसे संपर्क टूट चुका है.

एएनआई ने मंगलवार सुबह ट्वीट कर बताया कि लाहौल-स्पीति घूमने गए लापता हो चुके 8 लोगों का एक ग्रुप सुरक्षित है. इनमें ब्रुनेई की एक महिला संजीदा तुबा, नीदरलैंड के एबी लिम और 6 भारतीय नागरिक प्रियंका वोरा, पायल देसाई, दीपिका, दिव्या अग्रवाल, अभिनव चंदेल और अशोक हैं.

बता दें कि हिमाचल में बारिश से आई अचानक बाढ़ और भूस्खलन के चलते अब तक पांच लोगों की मौत हो चुकी है. हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश से कुल्लू, कांगड़ा और चंबा जिले में अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई और कुछ घायल भी हुए हैं. कुल्लू जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया है. यहां अब तक 20 करोड़ की संपत्ति का नुकसान हो चुका है.

कांगड़ा, कुल्लू और हमीरपुर जिलों में सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल-कॉलेजों को बंद रखने की सलाह दी गई है.

भारी बारिश की वजह से कांगड़ा जिले में ब्यास नदी पर बने पोंग बांध के गेट खोले जा सकते हैं, क्योंकि नदी में जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है. भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) के अधिकारी अरुण भाटिया ने बताया कि मंगलवार दोपहर तक पोंग बांध के गेट खोले जा सकते हैं. इस डैम से 49,000 क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा. हिमाचल प्रदेश की निचली जगहों पर लोगों को सावधान रहने को कहा गया है साथ ही पंजाब में भी हाई अलर्ट जारी किया गया है.

बता दें कि सोमवार को चंबा के चमेरा डैम को भी ज्यादा पानी बढ़ जाने की वजह से खोलना पड़ा था

उत्तर भारत में पिछले कुछ हफ्तों से धूप निकलने के बाद फिर से बारिश का सिलसिला शुरू हो गया है. पिछले हफ्ते से ही रोज बारिश हो रही है. मौसम विज्ञान विभाग ने अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश में छिटपुट जगहों पर बारिश का पूर्वानुमान जताया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi