S M L

राष्ट्रपति भवन में नहीं होगी इफ्तार पार्टी, नहीं होगा कोई धार्मिक आयोजन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कहना है कि किसी भी सार्वजनिक भवन में करदाताओं के पैसे पर कोई धार्मिक आयोजन नहीं किया जाना चाहिए

Updated On: Jun 07, 2018 11:32 AM IST

FP Staff

0
राष्ट्रपति भवन में नहीं होगी इफ्तार पार्टी, नहीं होगा कोई धार्मिक आयोजन

इस बार राष्ट्रपति भवन में इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं किया जाएगा. ऐसा लगभग 10 सालों के बाद होगा, जब देश के राष्ट्रपति इफ्तार पार्टी नहीं देंगे. इसके पहले भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने अपने कार्यकाल में इफ्तार पार्टी नहीं दिया था.

इस बार इफ्तार पार्टी न देने के पीछे वजह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हैं. उनका कहना है कि किसी भी सार्वजनिक भवन में करदाताओं के पैसे पर कोई धार्मिक आयोजन नहीं किया जाना चाहिए. इसकी जानकारी राष्ट्रपति के प्रेस सेक्रेटरी अशोक मलिक ने दी.

अशोक मलिक ने ट्विटर पर ट्वीट किया कि 'जब राष्ट्रपति कोविंद ने जुलाई, 2017 में ये पद संभाला तभी उन्होने निर्देश दिए थे कि राष्ट्रपति सार्वजनिक भवन है, ऐसे में यहां करदाताओं के पैसों पर कोई धार्मिक आयोजन नहीं होना चाहिए. ये संविधान के धर्मनिरपेक्ष सिद्धांत का पालन करना होगा और ये सभी त्योहारों पर लागू होगा, भले ही कोई भी धर्म हो.'

प्रेस सेक्रेटरी ने कहा कि राष्ट्रपति इसके इतर हर बड़े त्योहारों पर नागरिकों को शुभकामनाएं देते हैं. उन्होंने कहा कि साथ ही राष्ट्रपति भवन के सभी अधिकारी और कर्मचारी अपने घरों में अपनी मर्जी के अनुसार किसी भी धार्मिक त्योहार को सेलिब्रेट करने के लिए स्वतंत्र हैं.

मलिक ने कहा कि राष्ट्रपति भवन में मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारा है और बड़े त्योहार के मौकों पर राष्ट्रपति यहां लोगों को शुभकामनाएं देने पहुंचते हैं.

इसके पहले राष्ट्रपति कलाम ने भी अपने कार्यकाल 2002-2007  में इफ्तार पार्टी पर रोक लगा रखी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi