S M L

योगी सरकार का ऑर्डर: यूपी में अंबेडकर के नाम के साथ लिखना होगा 'रामजी'

देश का संविधान लिखने वाले डॉ. भीमराव अंबेडकर के नाम में अब आधिकारिक तौर पर 'रामजी' शब्द भी जुड़ने वाला है

FP Staff Updated On: Mar 29, 2018 10:04 AM IST

0
योगी सरकार का ऑर्डर: यूपी में अंबेडकर के नाम के साथ लिखना होगा 'रामजी'

देश का संविधान लिखने वाले डॉ. भीमराव अंबेडकर के नाम में अब आधिकारिक तौर पर 'रामजी' शब्द भी जुड़ने वाला है. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बुधवार को निर्देश जारी कर सभी विभागों और लखनऊ व इलाहाबाद में हाईकोर्ट बेंचों को दस्तावेजों और रिकॉर्ड्स में 'डॉ भीमराव अंबेडकर' की जगह 'डॉ भीमराव रामजी आंबेडकर' का इस्तेमाल करने को कहा है.

अंग्रेजी में अंबेडकर की स्पेलिंग में बदलाव नहीं किया जाएगा. लेकिन हिंदी में इसमें बदलाव किए जाएंगे, ताकि उनका नाम 'आंबेडकर' के तौर पर पुकारा जाए. बाबासाहेब डॉ भीमराव अंबेडकर महासभा के निदेशक डॉ लालजी प्रसाद ने कहा कि ये अभियान राज्यपाल राम नाईक के नेतृत्व में 2017 में शुरू किया गया था. राज्यपाल ने प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और महासभा को लिखा था और अंबेडकर की गलत स्पेलिंग को लेकर अपनी नाराजगी व्यक्त की थी. उन्होंने आगे कहा कि रामजी उनके (अंबेडकर) पिता थे और महाराष्ट्र में बेटों के नाम के बीच में पिता का नाम इस्तेमाल किया जाता है.

आपको बता दें कि राज्यपाल ने कहा था कि किसी भी व्यक्ति का नाम उसी तरह लिखा जाना चाहिए जिस प्रकार से वह स्वयं लिखता हो. इस दृष्टि से भारत के संविधान की मूल हिंदी प्रति के पृष्ठ 254 पर किए गए हस्ताक्षर (भीमराव रामजी आंबेडकर) के अनुसार, बाबा साहब का नाम डॉक्टर ‘भीमराव आंबेडकर’ लिखा जाना उचित होगा न कि डॉक्टर ‘भीम राव अंबेडकर’. भीमराव एक शब्द है न कि अलग-अलग. गौरतलब है कि आगरा स्थित डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के नाम में अंबेडकर की जगह आंबेडकर लिखने के निर्देश पहले ही जारी किए जा चुके हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi