S M L

भगवान राम के नाम का जलाएं दीया, जल्द शुरू हो जाएगा मंदिर निर्माण: CM योगी

देश भर से जुटे 3000 से ज्यादा साधु संतों ने अयोध्या में राम जन्मभूमि पर जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण शुरू करने का आह्वान किया है, अयोध्या आंदोलन के प्रमुख संत रामविलास वेदांती ने तो ये कहा कि दिसंबर में आपसी सहमति से मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा

Updated On: Nov 04, 2018 09:49 AM IST

FP Staff

0
भगवान राम के नाम का जलाएं दीया, जल्द शुरू हो जाएगा मंदिर निर्माण: CM योगी
Loading...

2019 लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा फिर से गरमाने लगा है. राम मंदिर निर्माण को लेकर संघ के बाद संतों ने भी दबाव बनाना शुरू कर दिया है. दिल्ली में देश भर से जुटे 3 हजार से ज्यादा साधु-संतों ने अयोध्या में राम जन्मभूमि पर जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण शुरू करने का आह्वान किया है.

इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान के बीकानेर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान राम के नाम का एक दीया जरूर जलाएं, मंदिर निर्माण का काम जल्दी शुरू हो जाएगा. उन्होंने लोगों को भरोसा दिया कि दिवाली के बाद इस विषय पर काम जरूर किया जाएगा.

वहीं केंद्रीय मंत्री पीपी चौधरी ने इस पर कहा कि राम मंदिर का जल्द ही निर्माण किया जाएगा. फिलहाल यह मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है और हम चाहते हैं कि इसका फैसला जल्दी लिया जाए. उन्होंने कहा कि वो सरकार के बारे में कुछ नहीं कह सकते लेकिन उनकी अपनी राय है कि अगर न्यायिक फैसला होने में देरी होती है तो इसे लेकर कानून बनना चाहिए.

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने राम मंदिर मुद्दे पर कहा कि मैंने हमेशा राम जन्मभूमि आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है लेकिन अभी इस केस की सुनवाई चल रही है. मुझे इस पर गर्व है. राम मंदिर का निर्माण मेरा सपना है और मेरी तरफ से जो भी मदद लगेगी मैं उसके लिए तैयार हूं.

'दिसंबर में आपसी सहमति से शुरू हो जाएगा मंदिर निर्माण कार्य'

शनिवार को अयोध्या आंदोलन के प्रमुख संत रामविलास वेदांती ने कहा था कि दिसंबर में आपसी सहमति से मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा. राम मंदिर का मुद्दा इस समय पूरे देश में गर्माया हुआ है. साधु-संतों से लेकर मंत्रियों तक सब फिलहाल इसी मुद्दे पर बातचीत करते नजर आ रहे हैं.

Ram-mandir-1-1

भगवान राम की जन्मभूमि की लेकर संतों का कहना है कि यह आस्था, विश्वास और श्रद्धा के अलावा देश की अस्मिता और राष्ट्रीय गौरव का विषय है. वर्ष 1528 से लेकर आज तक हिंदू समाज अपने आराध्य मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की जन्मभूमि को मुक्त कराने और वहां भव्य मंदिर निर्माण के लिए संघर्ष कर रहा है. इस संघर्ष में साढ़े तीन लाख से अधिक रामभक्तों ने अपने प्राणों की आहूति दी है. अब अनंतकाल तक न्यायालय के भरोसे इस विषय को नहीं छोड़ा जा सकता है.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के राम मंदिर की सुनवाई को जनवरी 2019 तक के लिए टाल देने से साधु-संतों में नाराजगी है. उनकी मांग है कि राम मंदिर के लिए सरकार अध्यादेश लेकर आए. साधु-संतों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर दिसंबर में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण नहीं शुरू होता है, तो देश भर के साधु-संत 6 दिसंबर को अयोध्या में जुटेंगे और बहुत बड़ा आंदोलन करेंगे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi