S M L

राम जन्मभूमि विवाद: सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी

राम जन्मभूमि विवाद पर सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, 'मैंने एक याचिका यह कहते हुए दायर की थी कि पूजा करना मेरा मौलिक अधिकार है और यह संपत्ति के अधिकार से ज्यादा महत्वपूर्ण है.'

FP Staff Updated On: Mar 14, 2018 04:55 PM IST

0
राम जन्मभूमि विवाद: सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी

सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में हस्तक्षेप की अनुमति के लिए दायर सभी अंतरिम आवेदन अस्वीकार कर दिए और इस केस में अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस ए नजीब की तीन सदस्यीय विशेष खंडपीठ ने इस दलील को स्वीकार कर लिया कि भूमि विवाद के सभी मूल पक्षकारों को ही बहस करने की अनुमति दी जानी चाहिए और इस प्रकरण से असंबद्ध व्यक्तियों की हस्तक्षेप करने के लिए दायर सारी आर्जियां अस्वीकार की जानी चाहिए.

शीर्ष अदालत ने बीजेपी नेता सुब्रमणियन स्वामी की भी इस विवाद में हस्तक्षेप के लिए दायर अर्जी अस्वीकार कर दी. हालांकि न्यायालय ने अयोध्या में विवादित स्थल पर बने राम मंदिर में पूजा करने के मौलिक अधिकार को लागू करने के लिए स्वामी की याचिका को बहाल करने का आदेश दिया. स्वामी की इस याचिका का पहले निबटारा कर दिया गया था.

स्वामी ने कहा, 'मैंने एक याचिका यह कहते हुए दायर की थी कि पूजा करना मेरा मौलिक अधिकार है और यह संपत्ति के अधिकार से ज्यादा महत्वपूर्ण है.'

विशेष खंडपीठ के पास इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ 14 अपीलें विचारार्थ हैं. इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के तीन न्यायाधीशों की पीठ ने 2010 में बहुमत के फैसले में इस विवादित भूमि को राम लला, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच बराबर बराबर बांटने का आदेश दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi