S M L

जेएनयू सुसाइड: एडमिशन प्रक्रिया पर ये सवाल उठाए थे कृष ने

जेएनयू में भी असमानता का आरोप लगाया था

Updated On: Mar 14, 2017 04:45 PM IST

FP Staff

0
जेएनयू सुसाइड: एडमिशन प्रक्रिया पर ये सवाल उठाए थे कृष ने

जेएनयू में एमफिल के स्टूडेंट कृष मुथुकृष्णनन ने 13 मार्च को सुसाइड कर लिया. 10 मार्च की अपनी आखिरी फेसबुक पोस्ट में उन्होंने एमफिल और पीएचडी दाखिले में कथित भेदभाव का आरोप लगाया था.

10 मार्च की अपनी इस आखिरी फेसबुक पोस्ट में मुथुकृष्णनन ने जेएनयू में एडमिशन प्रक्रिया में असमानता को लेकर जेएनयू को ही कटघरे में खड़ा किया था.

मुथुकृष्णनन ने अपनी फेसबुक पोस्‍ट में लिखा 'एमफिल-पीएचडी दाखिले में कोई समानता नहीं है, न ही मौखिक परीक्षा में कोई समानता है. केवल समानता के अधिकार का खंडन है. 'जब समानता नहीं मिलती है तब कुछ नहीं मिलता है.'

काफी एक्टिव था मुथुकृष्णनन

मुथुकृष्णनन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव था. उसने अपनी फेसबुक प्रोफाइल रजनी कृष के नाम से बनाई थी, और वे दोस्तों के बीच इसी नाम से चर्चित था.

तमिलनाडु के सेलम के रहने वाले मुथुकृष्णनन दक्षिण भारत के लोकप्रिय स्टार रजनीकांत के काफी दीवाना था, और उनके अभिनय की नकल उतारा करता था.

लिखने-पढ़ने में थी रुचि

मुथुकृष्णनन को लिखने-पढ़ने में भी रुचि थी. वह दलित जीवन की त्रासदियों को कहानियों के जरिये लगातार सामने ला रहा था. मुथुकृष्णनन ने फेसबुक पर इन कहानियों की 'माना' नाम से एक सीरीज भी चलाई थी. अपनी आखिरी फेसबुक पोस्ट में मुथुकृष्णनन ने 'माना' सीरीज के अंतर्गत पांचवी कहानी लिखी थी और इसी में ने जेएनयू में असमानता के मुद्दे को उठाया था.

(साभार: न्यूज18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi