S M L

स्वाइन फ्लू: राजस्थान में 9 लाख लोगों की जांच की गई, 67 नए मामले आए सामने

राजस्थान में स्वाइन फ्लू के 67 नए मामले सामने आए हैं. मंगलवार को भी स्वाइन फ्लू के कारण दो और लोगों की मौत हो गई

Updated On: Feb 06, 2019 11:33 AM IST

FP Staff

0
स्वाइन फ्लू: राजस्थान में 9 लाख लोगों की जांच की गई, 67 नए मामले आए सामने

देश भर में स्वाइन फ्लू का खतरा बढ़ता जा रहा है. लेकिन राजस्थान में इसका असर सबसे ज्यादा देखने को मिल रहा है. राज्य में स्वाइन फ्लू के 67 नए मामले सामने आए हैं. मंगलवार को भी स्वाइन फ्लू के कारण दो और लोगों की मौत हो गई. जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 88 हो गई है. एक जनवरी से पांच फरवरी तक स्वाइन फ्लू पीड़ित 88 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, इस संक्रमण के 2,522 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं. जोधपुर में सबसे ज्यादा 26 लोगों की मौत हुई है. कुल 11,811 लोगों का टेस्ट किया गया.

स्वाइन फ्लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने भी एडवाइजरी जारी की है. सरकार ने कहा है कि स्वाइन फ्लू एयर बॉर्न डिजीज है इसलिए यह आदमी के द्वारा ही दूसरे आदमी में फैलती है. यह कफिंग, स्नीजिंग, संक्रमित व्यक्ति द्वारा छूई गई वस्तूओं जैसे कि मोबाइल, कंप्यूटर को छूने और संक्रमित व्यक्ति से गले मिलने और किस करने से फैलती है.

राजस्थान में स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर और अजमेर जिलों में प्रारम्भ किए गए सघन स्क्रीनिंग अभियान के दूसरे दिन 9 लाख 58 हजार 605 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग भी की गई है. चिकित्सा एंव स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 9 फरवरी तक चलने वाले इस अभियान में स्वाइन फ्लू पॉजिटिव के अधिक मामले आने वाले 6 जिलों में सघन स्क्रीनिंग के अभियान के दूसरे दिन 4,553 स्वास्थ्य दलों ने 2 लाख 25 हजार 327 घरों में जाकर स्क्रीनिंग की.

इस दौरान कुल 9 लाख 58 हजार 605 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की गई. स्क्रीनिंग के दौरान 'इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस' पाए जाने पर 32 हजार 540 व्यक्तियों को आवश्यक परामर्श प्रदान किया गया. इनमें से 27 हजार 602 व्यक्ति सामान्य सर्दी, जुकाम से पीड़ित पाए गए. इसके अलावा स्क्रीनिंग के दौरान मामूली सर्दी, जुकाम से पीड़ित पाए गए व्यक्तियों में 135 गर्भवती महिलाएं, 109 हाई रिस्क ग्रुप के व्यक्तियों को स्वाइन फ्लू का उपचार प्रारंभ किया गया. साथ ही स्वाइन फ्लू बी कैटेगरी में चिन्हित 347 व्यक्तियों को जांच कराने के परामर्श के साथ ही उनका उपचार प्रारंभ किया गया.

स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि सघन अभियान के तहत पहले दो दिनों में 8 हजार 713 चिकित्सा दलों ने 4 लाख 12 हजार 525 घरों में जाकर 16 लाख 76 हजार 330 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की है. उन्होंने बताया कि निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 9 फरवरी तक इन जिलों में डोर-टू-डोर जाकर स्क्रीनिंग का कार्य किया जाएगा. मंगलवार को अजमेर जिले में 45 हजार 313, जोधपुर में 25 हजार 202, उदयपुर में 46 हजार 608, बीकानेर में 39 हजार 999, बाड़मेर 32 हजार 714, जयपुर प्रथम में 22 हजार 551 एवं जयपुर द्वितीय में 12 हजार 940 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की गई.

डॉं. शर्मा ने स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को स्वाइन फ्लू पॉजिटिव पाए जाने पर संबंधित व्यक्ति के संपर्क में आए व्यक्तियों तथा आस-पास के घरों में स्क्रीनिंग की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि स्क्रीनिंग कार्य में लापरवाही करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी.

(इनपुट भाषा)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi