S M L

राजस्थान की पाठ्यपुस्तकों की करेंगे समीक्षा, गांधी-नेहरू की भूमिका होगी बहाल: शिक्षा मंत्री

सत्ता संभालने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार ने कहा है कि राजस्थान की पाठ्यपुस्तकों की समीक्षा की जाएगी.

Updated On: Dec 29, 2018 09:39 PM IST

FP Staff

0
राजस्थान की पाठ्यपुस्तकों की करेंगे समीक्षा, गांधी-नेहरू की भूमिका होगी बहाल: शिक्षा मंत्री

राजस्थान में हाल ही में सत्ता परिर्वतन हुआ है. पांच सालों तक बीजेपी के शासन के बाद इस बार के विधानसभा चुनाव में जनता ने बीजेपी को नकार दिया और राज्य में कांग्रेस के हाथों में सत्ता आ गई. वहीं अब सत्ता संभालने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार ने कहा है कि राजस्थान की पाठ्यपुस्तकों की समीक्षा की जाएगी.

कांग्रेस के शासन वाली राजस्थान सरकार का कहना है कि उनकी सरकार राज्य में पाठ्यपुस्तकों और अन्य संदर्भ सामग्री की समीक्षा करेगी जो कि वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली सरकार के जरिए संशोधित की गई थी. राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का कहना है कि महात्मा गांधी और जवाहर लाल नेहरू जैसे राष्ट्रीय विभूतियों की भूमिकाओं को बहाल किया जाएगा और यह सुनिश्चित किया जाएगा कि उनके योगदान का उचित वर्णन किया जाए.

वहीं मंत्री ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इसको लेकर स्टेटस रिपोर्ट तैयार करने के लिए भी निर्देश दिया है. जिसमें पिछले शासन में पाठ्यपुस्तकों में किए गए संशोधनों का विवरण होगा. इसके अलावा शिक्षा मंत्री ने विकास योजनाओं के तहत भगवा रंग की साइकिल बांटने के बीजेपी सरकार के फैसले की समीक्षा करने का भी आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि विभिन्न बोर्डों और परिषदों पर आरएसएस समर्थित अधिकारियों की नियुक्ति में कथित पक्षपात की भी समीक्षा की जाएगी.

दरअसल, मई 2016 में नेहरू का नाम राज्य में कक्षा आठवीं की पाठ्यपुस्तकों से हटा दिया गया था. जिसके बाद गहलोत और सचिन पायलट ने वसुंधरा राजे की सरकार का जोरदार विरोध किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi